GLIBS

Business : सेंसेक्स ने 551 तो निफ्टी ने  188 अंकों की छलांग लगाकर खत्म किया कारोबार 

आर पी सिंह  | 31 Oct , 2018 06:12 PM
Business : सेंसेक्स ने 551 तो निफ्टी ने  188 अंकों की छलांग लगाकर खत्म किया कारोबार 

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया के गवर्नर के रिजाइन करने की अटकलों के चलते शेयर बाजार में पूरे दिन उतार चढ़ाव की स्थिति रही।  इस मामले को लेकर सरकार के स्पष्टीकरण और गवर्नर ऊर्जित पटेल के इस्तीफा नहीं दिए जाने की उम्मीद ने कारोबार के आखिरी घंटों में बाजार को सपोर्ट किया और बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स 551 अंक उछलकर 34,442.05 पर बंद हुआ।

वहीं नैशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 188.20 अंकों की तेजी के साथ 10,386.60 पर बंद हुआ। निफ्टी में 36 शेयर हरे निशान में जबकि 14 शेयर लाल निशान में बंद हुए।

दोपहर बाद सरकार ने स्पष्ट की स्थिति:

गौरतलब है कि आरबीआई और सरकार के बीच चल रही उठापटक का असर बाजार पर पूरे दिन दिखा। हालांकि दोपहर बाद वित्त मंत्रालय की तरफ से स्पष्टीकरण जारी किए जाने के बाद स्थिति साफ होती दिखी।

वित्त मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है, आरबीआई एक्ट के तहत केंद्रीय बैंक की स्वायत्ता जरूरी है और इस पर कोई दोराय नहीं है। भारत सरकार ने इसे मजबूत किया है और वह इसका सम्मान करती है।'

बयान में कहा गया है, 'सरकार और केंद्रीय बैंक दोनों ही जनता के हित और भारतीय अर्थव्यवस्था की जरूरतों के मुताबिक काम करते हैं। इसके लिए सरकार और आरबीआई के बीच समय-समय पर विचार विमर्श होते रहता है।'

मंत्रालय ने कहा, 'यही बात सभी अन्य नियामकों के लिए सही है। भारत सरकार ने कभी भी इस मुद्दे को सार्वजनिक नहीं किया है। केवल अंतिम फैसलों के बारे में ही जानकारी सार्वजनिक की जाती है। सरकार आगे भी ऐसा करती रहेगी।'

19 नवंबर को होगी आरबीआई की बैठक:

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरबीआई गवर्नर ऊर्जित पटेल इस्तीफा नहीं देंगे। खबरों के मुताबिक 19 नवंबर को पटेल ने आरबीआई बोर्ड की बैठक बुलाई है।

सुबह कैसा था बाजार का हाल:

आरबीआई और सरकार के बीच जारी विवाद का असर रुपये पर भी देखने को मिला है। बुधवार के कारोबार में भारतीय रुपये ने एक बार फिर से डॉलर के मुकाबले 74 का स्तर पार कर लिया। आज दिन के कारोबार में रुपया 43 पैसे टूटकर 74.11 के स्तर पर जा पहुंचा, वहीं दिन के 12 बजे रुपया डॉलर के मुकाबले 74.04 के स्तर पर कारोबार करता देखा गया। रुपये में यह कमजोरी आयातकों की ओर से अमेरिकी करेंसी (डॉलर) की बढ़ी मांग के कारण देखने को मिली। फॉरेक्स ट्रेडर्स का मानना है कि दुनिया की तमाम मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की मजबूती और सरकार एवं आरबीआई के बीच जारी तनातनी के चलते घरेलू मुद्रा पर असर पड़ा है।

एनबीएफसी शेयरों में रही तेजी नॉन बैंकिंग फाइनैंशियल कंपनियों (एनबीएफसी) के शेयरों में आई तेजी की वजह से बाजार में उछाल आई। बीएसई का फाइनैंस इंडेक्स करीब 100 से अधिक अंकों की तेजी के साथ बंद हुआ।

इन शेयर्स पर हावी रही बिकवाली:

इंडेक्स में सबसे ज्यादा तेजी धनलक्ष्मी बैंक, पीएनबी हाउसिंग, डीएचएफएल, इंडियाबुल हाउसिंग और यूको बैंक के शेयरों में रही। मंगलवार को सेंसेक्स दिन भर के उतार चढ़ाव के बाद 176 अंक टूटकर 34,000 के नीचे 33,891 पर बंद हुआ था वहीं निफ्टी 10,200 के नीचे फिसलकर 10,198.40 पर बंद हुआ था।