GLIBS

एलन मस्क बने दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति, माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर बिल गेट्स को पीछे छोड़ा

ग्लिब्स टीम  | 24 Nov , 2020 04:54 PM
एलन मस्क बने दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति, माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर बिल गेट्स को पीछे छोड़ा

नई दिल्ली। टेस्ला इंक और SpaceX के को-फाउंडर और सीईओ एलन मस्क दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं। उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर बिल गेट्स को पीछे छोड़ा है। 49 साल के एलन मस्क के नेटवर्थ में पिछले दिनों 7.2 अरब डॉलर का इजाफा हुआ है और ये अब 127.9 अरब डॉलर हो गया है।ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार टेस्ला के शेयरों में भारी उछाल होने के बाद उनके नेटवर्थ में ये अप्रत्याशित इजाफा हुआ है। एलन मस्क के नेटवर्थ में इस साल 100.3 अरब डॉलर का इजाफा हुआ है। इसी साल की जनवरी में वे ब्लूमबर्ग की दुनिया के अरबपतियों की लिस्ट में 35वें स्थान पर थे। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के आठ साल के इतिहास में यह केवल दूसरी बार है जब माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प के सह-संस्थापक बिल गेट्स को अमीरों की लिस्ट में दूसरे नंबर से नीचे जाना पड़ा है। साल 2017 में अमेजॉन के संस्थापक जेफ बेजोस के पहले स्थान पर काबिज होने से पहले बिल गेट्स वर्षों तक शीर्ष स्थान पर बने रहे थे। गेट्स की कुल संपत्ति अभी 127.7 अरब डॉलर है।

हालांकि ऐसे अनुमान हैं कि बिल गेट्स ने पिछले कुछ सालों में बड़ी तादाद में दान दिया है। ऐसे में उनकी दान की राशि कम होती तो कुल संपत्ति और भी अधिक हो सकती थी। एक आंकड़े के अनुसार बिल गेट्स ने 2006 के बाद से 27 अरब डॉलर से अधिक अपने कई फाउंडेशन को दान के तौर पर दिया है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में कहा गया है कि एलन मस्क की संपत्ति में इतनी बड़ी वृद्धि मुख्य तौर पर टेस्ला की वजह से हुई है,जिसका बाजार मूल्य 500 अरब डॉलर के करीब पहुंच गया है। एलन मस्क की कुल संपत्ति में से तीन चौथाई में टेस्ला के शेयर शामिल हैं। ब्लूमबर्ग की लिस्ट के सदस्यों ने सामूहिक रूप से इस साल के शुरू होने के बाद से करीब 23 प्रतिशत या 1.3 ट्रिलियन डॉलर अपनी संपत्ति में जोड़े हैं।ब्लूमबर्ग बिलिनेयर इंडेक्स के अनुसार जेफ बेजोस पहले नंबर पर हैं। वहीं, 105 अरब डॉलर के साथ बर्नार्ड अर्नाल्ड चौथे नंबर पर और 102 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ मार्क जकरबर्ग पांचवें नंबर पर हैं।

 

Author/Journalist owns and is responsible for views/news published and the publisher/printer is in no way liable for such content.