GLIBS
16-04-2019
Lok Adalat: चेक बाऊंस के लंबित मामले के निपटारे के लिए 20 अप्रैल को लगेगी वृहद लोक अदालत

रायपुर। राजधानी सहित प्रदेश के सभी जिलों में 20 अप्रैल को वृहद लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। इसमें चेक बाऊंस के लंबित मामलों का निराकरण किया जाएगा। न्यायाधीश सचिव उमेश उपाध्याय ने बताया कि 20 अप्रैल को एक वृहद लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। ये राज्य स्तरीय लोक अदालत है। लगभग 5-6 साल बाद किसी विषय को लेकर लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ राज्य और पूरे देश में जिस तरह से चेक बाऊंस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है और लोग चेक अपने आप में समन्वय व्यवहार में उपयोग कर रहे हैं। इसी के चलते चेक बाऊंस के मामले कोर्ट में पहुंच रहे हैं।

इसी तरह रायपुर में भी चेक बाऊंस के मामले बड़ी संख्या में लंबित है। रायपुर में चेक बाऊंस के लगभग 12 हजार 800 मामले लंबित है। ये सभी मामले के निराकरण के लिए रायपुर सहित सभी जिलों में 20 अप्रैल को वृहद लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। इसमें 8 फिडबैक बनाई गई है। इससे अधिक से अधिक चेक बाऊंस मामलों का निराकरण हो सके। वहीं सचिव उमेश उपाध्याय ने लोगों से अपील की है कि अपने चेक बाऊंस के मामले को लेकर लोक अदालत में पहुंचे और निराकरण करवाएं।
 

11-03-2019
राष्ट्रीय लोक अदालत में लगा नेत्र परीक्षण व चश्मा वितरण शिविर 

रायपुर।  किशोर न्याय बोर्ड रायपुर के सदस्य पंकज कुमार गुप्ता ने अपनी माता स्व. डॉ उषा गुप्ता की स्मृति में  9 मार्च को राष्ट्रीय लोक अदालत जिला न्यायालय परिसर रायपुर में महावीर इंटरकांटिनेंटल सर्विस आर्गेनाइजेशन के सहयोग से व पंकज नर्सरी एजुकेशन सोसाइटी के बैनर के अंतर्गत नि:शुल्क नेत्र परीक्षण एवं चश्मा वितरण शिविर का आयोजन किया। शिविर में 567 से ज्यादा लोगों का नेत्र परीक्षण व 292 लोगों को चश्मा वितरण किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला एवं सत्र न्यायाधीश  राम कुमार तिवारी,  उमेश उपाध्याय  सचिव-जिला विधिक सेवा प्राधिकरण रायपुर व लोकेश कावडिय़ा उपाध्यक्ष महावीर इंटरकांटिनेंटल सर्विस आर्गेनाइजेशन की उपस्थिति रही। कार्यक्रम संचालन में डॉ आरपी यादव, डॉ प्रकाश राठौर, डॉ राजेश साहू, डॉ हेमपुष्पा साहू, डॉ रितु विश्वास,  धरमेंद्र जैन, अशोक जैन, अजय पिथालिया, विक्रम सिंह, मोंटी राजपूत, उर्वशी वैष्णव, खिलेश्वरी साहू, गुलशन जैन, गुंजन गुप्ता, ओमी कुम्बलकर का योगदान सराहनीय रहा।

09-03-2019
प्रथम नेशनल लोक अदालत में 11 हजार से अधिक मामलों की हुई सुनवाई

रायपुर। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली के निर्देश पर शनिवार को  देशभर के न्यायालयों के साथ ही रायपुर जिला न्यायालय एवं जिले के अन्य सिविल न्यायालयों में प्रथम नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया।  नेशनल लोक अदालत में 11000 से अधिक मामले को सुनवाई की गई, जिसमें विभिन्न सिविल मामले और राजीनामा योग्य आपराधिक मामले एवं प्री-लिटिगेशन मामले थे। इसमें लगभग 4800 मामले न्यायालय के लंबित मामले हैं और 6700 से अधिक प्रिलिटिगेशन मामला है। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव उमेश उपाध्याय ने बताया कि हर बार की तरह इस बार भी लोक अदालत की व्यापक तैयारियां की गई है। नवीन न्यायालय भवन में पक्षकारों के लिए नि:शुल्क विधिक परामर्श केन्द्र बनाया जाएगा, साथ ही पक्षकारों की मदद करने के लिये प्राधिकरण के पैरा लीगल वालिंटियर की टीम मौजूद रहेगी। नेशनल लोक अदालत में जिला न्यायालय परिसर में नारायणा हास्पिटल देवेन्द्र नगर रायपुर द्वारा नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाया गया। इसमें अस्थिरोग विशेषज्ञ एवं मेडीसिन विशेषज्ञ उपलब्ध थे। नेशनल लोक अदालत के संबंध में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण रायपुर के अध्यक्ष रामकुमार तिवारी के मागदर्शन में लगातार तैयारियां की जा रही थीं।  नेशनल लोक अदालत के लिए कुल 36 खंडपीठों का गठन किया गया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804