GLIBS
11-01-2019
Crime: सरकारी बारदाने से भरे कंटेनर को पुलिस ने पकड़ा

कोरबा। धान भंडारण के लिए उपयोग में आने वाले बारदाने की हेराफेरी का मामला सामने आया है। कोतवाली पुलिस ने सरकारी बारदाने से भरे कंटेनर आरजे-29-जी-5054 को जब्त किया है। पुलिस  इस मामले में ट्रांसपोर्टर से पूछताछ कर रही है। बताया जा रहा है की शासन की तरफ से उपार्जन और धान खरीदी केन्द्रो में भेजे जाने वाले इस बोरे की तस्करी राजस्थान में की जा रही थी। किसी ने कोतवाली पुलिस को इसकी सूचना दे दी। सूचना पाकर इमलीडुग्गु के पास कंटेनर को रुकवाया और जांच की गई। कंटेनर बारदाने से भरा हुआ था। बताया जा रहा है इन सरकारी बोरों की बिक्री सीतामणी के व्यवसायी रमेश साव द्वारा किया जाता है।

04-01-2019
खरीदी केन्द्रों में क्षमता से चार गुना ज्यादा धान खुले आसमान के नीचे            

बालोद। जिले के धान खरीदी केन्द्रों में लगातार परिवहन की समस्या बने रहने के कारण समितियों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। ऊपर से बफर लिमिट बढऩे से सेवा सहकारी समितियों की मुसीबतें बढ़ गई हैं। इस ओर विभाग के जिम्मेदार ध्यान नहीं दे रहे हैं। खरीदी केन्द्रों में क्षमता से चार गुना ज्यादा धान खुले आसमान के नीचे पड़े हैं। परिवहन नहीं होने के कारण खरीदी केंद्र पूरी तरह जाम हो गया है। किसानों को धान रखने के लिए भी जगह नहीं मिल पा रही है। प्रबंधन को मजबूरी में धान खरीदी करनी पड़ रही है। समिति प्रबंधकों ने बताया कि धान खरीदी करना उनकी प्राथमिकता है लेकिन परिवहन नहीं हो रहा है ये हमारे लिए परेशानी का सबब बन गया है । शासन द्वारा समितियों के माध्यम से 2002 से धान खरीदी हो रही है, लेकिन समितियों में पर्याप्त चबूतरों का निर्माण नहीं किया गया है। अगर बारिश हो गई तो डेनेज में रखा धान पूर्ण रूप से खराब हो जाता है और समिति को नुकसान उठाना पड़ता है। सेवा सहकारी समिति धनेली अध्यक्ष गोविंद राम साहू का कहना है कि चबूतरा के लिए शासन को फंड जारी करना चाहिए। बफर लिमिट को बगैर समिति की सहमति के कई गुना ज्यादा बढ़ा दिया गया है।  समिति के पास पर्याप्त व्यवस्था नहीं है।  इसकी वजह से  समिति को नुकसान उठाना पड़ रहा है। समिति अध्यक्षों ने बताया कि 2002 से 12 रुपए प्रति क्विंटल शासन द्वारा समिति को प्रासंगिक व्यय दिया जा रहा है और इसमें डेनेज, तारघेरा, सुतली, चौकीदारी, बोरे में मार्का आदि खर्च शामिल हैं। पहले लागत कम थी लेकिन आज लागत बढऩे के बाद भी समिति को महंगाई के जमाने में 12 रुपए ही दिया जा रहा है।                                                                                   

 

08-12-2018
Paddy Purchase : सुकमा में 13 हजार 673 क्विंटल धान की खरीदी, मिलरों ने 8,100 क्विंटल धान का किया उठाव

सुकमा। जिले के विभिन्न धान खरीदी केंद्रों में अब 13 हजार 673 क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है। कुल खरीदी गई धान में राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित सुकमा से आठ हजार एक सौ  क्विंटल धान विभिन्न मिलरों द्वारा उठा लिया गया हैं। इसी तरह से उर्पाजन केंद्रों से चार हजार एक सौ चालीस  क्विंटल धान का उठाव मिलरों द्वारा किया जा चुका हैं। 

जिला विपणन अधिकारी राज्य सहकारी विपणन संघ मार्यादित सुकमा से प्रप्त जानकारी के अनुसार जिले के धान उर्पाजन केन्द्रों से कोडरीपाल में एक हजार एक सौ चालीस  क्विंटल , कोंटा में 198  क्विंटल  40 किलोग्राम, गादीरास में 838  क्विंटल, छिन्दगढ़ में पांच हजार 78  क्विंटल , तोंगपाल में 938  क्विंटल  60 किलो ग्राम, पुसपाल में 831  क्विंटल  40 किलो ग्राम तथा सुकमा के उर्पाजन केन्द्रों में लगभग चार हजार 649  क्विंटल  धान की खरीदी की जा चुकी हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804