GLIBS
19-07-2019
प्रियंका की गिरफ्तारी खेदजनक : राहुल

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके राहुल गांधी ने पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की गिरफ्तारी को अवैध तथा दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए आरोप लगाया है कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार मनमानी पर उतर आयी है और सत्ता का दुरुपयोग कर रही है। गांधी ने शुक्रवार को ट्वीट किया उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में प्रियंका की अवैध गिरफ्तारी खेदजनक है। सोनभद्र में अपनी जमीन खाली करने से मना करने वाले किसानों की गोली मारकर निर्मम हत्या की गयी थी और पीडित परिजनों से मिलने जाते समय उन्हें गिरफ्तार करना सत्ता की शक्ति का दुरुपयोग है। इससे साबित होता है कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में असुरक्षा बढ रही है।

कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल ने भी एक बयान जारी कर श्रीमती वाड्रा की गिरफ्तारी पर क्षोभ व्यक्त किया है और इस कार्रवाई को उत्तर प्रदेश सरकार की मनमानी करार देते हुए उनकी रिहाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार देश की जनता के साथ अभ्रदता से पेश आ रही है और अन्याय कर रही हँ। पार्टी प्रियंका वाड्रा के साथ किए गए व्यवहार की निंदा करती है और इसके खिलाफ देशव्यापी आंदोलन करेगी। पार्टी ने अपने आधिकारिक पेज पर इस संबंध में ट्वीट किया और कहा सोनभद्र हत्याकांड के पीड़ितों से मिलने जा रही कांग्रेस महासचिव की गिरफ्तारी उतर प्रदेश सरकार की तानाशाही का निकृष्टतम उदाहरण है। हम पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए दृढ संकल्पित हैं और भाजपा सरकार के इन ओछे हथकंडों से डरने वाले नहीं हैं। कांग्रेस महासचिव को सोनभद्र जाने से जबरन रोकना लोकशाही का अपमान है। बगैर लिखित आदेश और संविधान की मूल भावना के विपरीत सरकार का यह कदम तानाशाही को दशार्ता है। गौरतलब है कि सोनभद्र में 17 जुलाई को गांव के प्रधान ने जमीनी विवाद में गोली चलाई थी जिसमें दस किसान मारे गये और 28 घायल हो गये थे। प्रियंका वाड्रा इन्हीं किसानों के पीडित परिजनों से मिलने जा रही थीं।

28-06-2019
विधायक आकाश की गिरफ़्तारी के विरोध में भाजपा का धरना, इंदौर में लगे पोस्टर

इंदौर। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश विजयवर्गीय की गिरफ़्तारी के विरोध में आज मध्यप्रदेश के इंदौर में पार्टी संगठन ने धरना प्रदर्शन किया।
धरना प्रदर्शन में शामिल हुये भाजपा के क्षेत्रीय विधायकों और पार्टी नेताओं ने इस दौरान कांग्रेस शासन पर जमकर हमला बोला। वरिष्ठ नेता बाबूसिंह रघुवंशी ने आकाश की गिरफ्तारी को कांग्रेस सरकार का षड्यंत्र बताया। उन्होंने आरोप लगाया कि आकाश को घेरने के लिए समूचा तंत्र कांग्रेस के इशारे पर काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को नहीं भूलना चाहये कि उन्हें जनता ने बहुमत नहीं दिया है।
विधायक आकाश विजयवर्गीय को दो दिन पहले इंदौर की महात्मा गांधी रोड थाना पुलिस ने निगमकर्मियों के साथ मारपीट कर शासकीय कार्य में बाधा डालने के आरोप में गिरफ्तार किया था। विधायक की यहां की अदालतों से जमानत नहीं हो सकी है।
वहीं विधायक आकाश विजयवर्गीय के समर्थको ने यहाँ जेल के बाहर सहित शहर के अन्य क्षेत्रो में 'सेल्यूट आकाश' लिखे पोस्टर चिपका दिये, जिन्हें नगर निगम के दल ने सूचना मिलते ही हटा दिया।
निगम अधिकारियों ने इस बारे में बताया कि उनकी पहली प्राथमिकता पोस्टर हटाने की है, जिसके बाद उच्च अधिकारियों से निर्देश मिलने पर पोस्टर लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

13-05-2019
डॉक्टर का अपहरण कर मारपीट करने के आरोपी ने किया आत्मसमर्पण, पुलिस बता रही गिरफ्तारी

अम्बिकापुर। मेडिकल कॉलेज अंबिकापुर सह जिला चिकित्सालय के सहायक अधीक्षक डॉक्टर अलख राम वर्मा का अपहरण कर उनसे मारपीट करने के मामले में फरार मुख्य आरोपी पंकज चौधरी ने सोमवार को गांधीनगर थाने में आत्मसमर्पण कर दिया लेकिन पुलिस उसे गिरफ्तारी बता रही है। पूरा मामला 10 मई का है। डॉक्टर अलख राम वर्मा ने गांधीनगर थाने में शिकायत की थी कि पंकज चौधरी अपने दो अन्य साथियों के साथ उसे मोटरसाइकिल में जबरदस्ती बैठाकर जिला अस्पताल ले गए और वहां उससे मारपीट की। शिकायत पर पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई थी। घटना के 2 दिन बाद आज मुख्य आरोपी पंकज चौधरी ने गांधीनगर थाने में आत्मसमर्पण कर दिया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि डॉक्टर से मारपीट के बाद आरोपियों की तलाश की जा रही थी।  आज पंकज चौधरी को गांधी नगर के गांधी चौक से सूचना मिलने पर गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं पंकज चौधरी ने आरोप लगाते हुए मीडिया को बताया कि मुकेश मुंडा नामक युवक को जिला अस्पताल में संविदा कर्मी पद पर नौकरी लगाने के लिए झांसा देकर डॉक्टर अलख राम वर्मा द्वारा 20 हजार लिया गया था। वह राशि पंकज चौधरी ने खुद दी थी,लेकिन कई दिनों तक मुकेश मुंडा की नौकरी नहीं लगी तो वह पैसे वापस लेने के लिए डॉक्टर अलख राम वर्मा के पास गया। डॉक्टर ने जिला अस्पताल में चलकर पैसे देने की बात कही और वहीं  पर दोनों के बीच हाथापाई हो गई। पुलिस का कहना है कि अस्पताल में भोजन संबंधित खानपान के बिलों के भुगतान के संबंध में अभय ट्रेडर्स नामक कंपनी के बिल रोकने की बात को लेकर विवाद हुआ था जिसमें इस पूरी घटना को अंजाम दिया गया। बहरहाल आत्मसमर्पण और पुलिस द्वारा गिरफ्तारी में कितनी सच्चाई है यह तो देखने वाली बात है।

02-05-2019
गौतम नवलखा को गिरफ्तारी से अंतरिम छूट का महाराष्ट्र सरकार ने किया विरोध

मुंबई। बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा गौतम नवलखा को गिरफ्तारी से दी गई अंतरिम छूट का महाराष्ट्र सरकार ने विरोध किया है। गुरुवार को गढ़चिरौली नक्सली हमले का हवाला देते हुए सरकार ने कहा कि वह ऐसे ही एक समूह के सदस्य हैं। जस्टिस रंजीत मोरे और जस्टिस भारती डांगरे की एक पीठ ने नवलखा की उस याचिका पर सुनवाई की जिसमें उनके खिलाफ  दर्ज मामले को रद्द करने की मांग की गई थी। एल्गार-परिषद से माओवादी के संबंध होने के मामले में पुणे पुलिस ने उनके खिलाफ  एक मामला दर्ज किया था। पुलिस ने नवलखा और अन्य चार नगारिक अधिकार कार्यकर्ताओं पर नक्सलियों से संबंध रखने का आरोप लगाया था। अदालत ने अक्टूबर 2018 में नवलखा को गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था। सरकारी वकील अरुणा कामत पई ने बुधवार को गढ़चिरौली जिले में हुए नक्सली हमले का हवाला देते हुए नवलखा को गिरफ्तारी से मिली छूट को वापस लेने की मांग की। उन्होंने कहा कि नक्सलियों ने गढ़चिरौली में हमला किया, जिसमें 15 पुलिसकर्मियों की जान चली गई। याचिकाकर्ता पर ऐसे ही एक समूह से नाता रखने का आरोप है।  वकील ने कहा कि गिरफ्तारी अंतरिम संरक्षण के कारण पुलिस जांच जारी नहीं रख सकती और उन्हें नवलखा से पूछताछ करने की आवश्यकता है। नवलखा के वकील युग चौधरी ने इसका विरोध करते हुए पूछा कि क्या पुलिस यह दावा कर रही है कि उनका मुवक्किल बुधवार को हुए आईईडी विस्फोट के पीछे था? अदालत ने कहा कि नवलखा को मिला अंतरिम संरक्षण जांच में आड़े नहीं आना चाहिए। जस्टिस मोरे ने कहा कि अंतरिम संरक्षण अक्टूबर 2018 को दिया गया था। एक और महीने का संरक्षण जांच में बाधा नहीं डालेगा। मामले की अगली सुनवाई 12 जून को होगी।

16-04-2019
असांजे की गिरफ्तारी के बाद हुए 4 करोड़ साइबर अटैक : सरकार

क्वितो। विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे (47) की गिरफ्तारी के बाद दुनियाभर से इक्वाडोर की सरकारी संस्थाओं की वेबसाइट पर 4 करोड़ के साइबर अटैक हुए। यह जानकारी इक्वाडोर के सूचना और संचार विभाग के उप मंत्री पैट्रिको रियल ने दी। ब्रिटिश पुलिस ने गुरुवार को असांजे को गिरफ्तार किया। उन्होंने 2012 से इक्वाडोर के दूतावास में शरण ले रखी थी। पैट्रिक का दावा है कि ज्यादातर साइबर हमले दक्षिण अमेरिकी देशों के अलावा अमेरिका, ब्राजील, हॉलैंड, जर्मनी, रोमानिया, फ्रांस, आॅस्ट्रिया और ब्रिटेन से हुए। इस दौरान विदेश मंत्रालय, सेंट्रल बैंक, राष्ट्रपति के आॅफिस, राजस्व सेवाएं, कई मंत्रालय और विश्वविद्यालयों की साइट को निशाना बनाया गया।

11-10-2018
Surajpur Police : अभियान चलाकर पुलिस ने 12 स्थाई वारंटी और 25 गैर जमानती वारंटियों को पकड़ा

सूरजपुर। एसपी जी.एस.जायसवाल के निर्देश पर सूरजपुर पुलिस ने अभियान चलाकर 1 सितंबर से अब तक कुल 491 गैर जमानती वारंटियों की तामिल कर चुकी है। यह अभियान लगातार जारी रहेगी। 

बता दे कि विधानसभा चुनाव को देखते हुए सूरजपुर एसपी जी.एस.जायसवाल ने जिले के थाना चौकी प्रभारियों को निर्देश दिया कि वर्षो से फरार चल रहे स्थाई वारंटियों के अलावार गिरफ्तार वारंटियों को पकड़कर कार्रवाई की जाए। जिससे पुलिस ने वारंटीयों की धरपकड़ करने के लिए 10 से अधिक टीमें लगाई है। इस दौरान पुलिस ने अभियान के दौरान आज 12 स्थाई वारंटी व 25 गैर जमानती वारंटियों को गिरफ्तार किया है। इसी तरह पुलिस ने 1 सितम्बर से अब तक 208 स्थाई और 283 गिरफ्तारी के साथ कुल 491 गैर जमानती वारंटों की तामीली की जा चुकी है और कार्यवाही निरंतर जारी है।

26-09-2018
CG Congress : भूपेश बघेल के समर्थन में कांग्रेस नेताओं ने दी गिरफ़्तारी

कोण्डागांव। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल को जेल भेजे जाने के विरोध में आज कोण्डागांव शहर और ब्लाक कांग्रेस के पदाधिकारियो, कार्यकर्ताओ ने आक्रोश जताते हुए कोण्डागांव विधायक मोहन मरकाम के नेतृत्व में कांग्रेस भवन से भारी संख्या में पैदल मार्च कर कोण्डागांव थाना में 1ने गिरफ्तारी दी।

गिरफ्तारी के दौरान विधायक मोहन मरकाम ने कहा कि जिस प्रकार से मुख्यमंत्री डॉ.रमनसिंग की भाजपा सरकार दमनात्मक कार्यवाही कर विपक्ष की आवाज को दबाने कुचलने का प्रयास कर रही है वो अति निंदनीय है लेकिन कांग्रेस के सिपाही उनके इस प्रकार के दमनात्मक कार्यवाही से डरेगी नही, बल्कि और भी अधिक पुरजोर तरीके से विरोध प्रदर्शन करती रहेगी आज जबकि सी.डी. प्रकरण के मुख्य आरोपी ने भी कह दिया कि इस मामले में भूपेश बघेल निर्दोष हैं उसके बाद इस मामले में भाजपा की कलई पूरी तरह खुल गई और वास्तविकता जनता के बीच आ गई है, जिसका जवाब जनता आगामी चुनाव में भाजपा को सत्ता से हटाकर जरूर देगी । 

जेल भरो आंदोलन के दौरान प्रदेश संयुक्त महासचिव शांतिलाल सुराणा,प्रदेश कार्यसमिति सदस्य कैलाश पोयाम,शहर अध्यक्ष यूसुफ रजवी,अनु जाती प्रकोष्ठ अध्यक्ष मोहन नायक,जिला महामंत्री गीतेश गांधी,संयुक्त महामंत्री कपिल चोपड़ा,श्याम सिंग,पप्पू गुप्ता,शकूर खान,पार्षदगण तरुण गोलछा,राजेन्द्र देवांगन, सहित भारी संख्या में पदाधिकारी कार्यकर्ता उपस्थित थे ।

28-08-2018
Naxalite : देश भर में माओवादी नेताओं के ठिकानों पर छापे, वरवरा राव और गौतम नवलखा गिरफ्तार 

पुणे/ हैदराबाद। भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़े मामले में देश के कई हिस्सों में मंगलवार को पुणे पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने कई एक्टिविस्ट और माओवादी नेताओं के ठिकानों पर छापेमारी की।  ये छापेमारी महाराष्ट्र, गोवा, तेलंगाना, दिल्ली और झारखंड में की गई। इसमें 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। ये सभी छापेमारी पुणे पुलिस और स्थानीय पुलिस ने एक साथ की।

गौतम नवलखा की पेशी कल:

दलित एक्टविस्ट गौतम नवलखा की गिरफ्तारी के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में हैबियस कार्पस (बंदी प्रत्यक्षीकरण) याचिका दाखिल की गई।  हाईकोर्ट ने गौतम नवलखा की गिरफ्तारी पर एक दिन की रोक लगा दी है।  कल सबसे पहले इस मामले की सुनवाई की जा सकेगी।  इस बीच आरोपी को दिल्ली से बाहर नहीं ले जाया जा सकेगा।  पुणे पुलिस ने उन्हें ट्रांजिट रिमांड पर पुणे ले जाने की मांग कर रही है।

ये लोग हुए गिरफ्तार:

पुणे पुलिस की ओर से अब तक कुल 5 गिरफ्तारियां की गई हैं।  दिल्ली, हरियाणा और हैदराबाद से 1-1 गिरफ्तारी की गई जबकि मुंबई से 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया।  दलित एक्टविस्ट गौतम नवलखा, वरवरा राव, सुधा भारद्वाज, अरुण फरेरिया और वरनोन गोंजालवेस गिरफ्तार किए गए लोग हैं। दूसरी ओर, वरवरा राव को हैदराबाद के गांधी अस्पताल में मेडिकल चेकअप के बाद नाम्पैली कोर्ट में उन्हें पेश किया गया।  उनकी गिरफ्तारी के दौरान वहां काफी भीड़ एकत्र हो गई थी।मानवाधिकार कार्यकर्ता और वकील सुधा भारद्वाज को फरीदाबाद जिला अदालत में पेश किया गया।  पुणे पुलिस ने उन्हें ट्रांजिट रिमांड लिया है।

दिल्ली में भी छापेमारी :

पुलिस ने मंगलवार को राजधानी दिल्ली में भी इसी मामले को लेकर छापेमारी की।  दिल्ली में पुलिस गौतम नवलखा को अपने साथ गाड़ी में बैठाकर ले गई, इसके अलावा उनके घर से लैपटॉप-कागजात को भी सीज किया गया।  पुलिस ने गौतम नवलखा को साकेत कोर्ट में पेश किया।  इसके अलावा ठाणे में अरुण फरेरिया के घर पर भी छापेमारी की गई।

वहीं, दिल्ली के बदरपुर में ही वकील सुधा भारद्वाज को भी हिरासत में लिया गया है।  उनके भी लैपटॉप, फोन, पेन ड्राइव सीज किए गए हैं।  पुलिस ने सुधा से उनके सभी ईमेल के एक्सेस देने को कहा है।  सुधा के साथ-साथ उनकी बेटी अनु भारद्वाज के ईमेल, सोशल मीडिया अकाउंट की जानकारी भी मांगी गई है।  यहां तक की पुलिस ने उनकी बेटी अनु के फोन के अलावा सोशल मीडिया में फेसबुक और इंस्टाग्राम समेत सभी तरह के एक्सेज ले लिया है।

पुलिस ने हैदराबाद में कवि, वामपंथी विचारक और एक्टिविस्ट वरवरा राव के घर पर भी छापेमारी की, इस दौरान वहां पर काफी संख्या में भीड़ भी एकत्रित हो गई।

पुणे में अरुण फरेरिया के घर छापे:

इसके अलावा पुणे में भी भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़े मामले में छापेमारी की।  ये छापेमारी एक्टिविस्ट अरुण फरेरिया के घर ठाणे में की गई।  बताया जा रहा है कि पहले वे मुंबई में रहते थे।

कई बार पहले भी हो चुके हैं गिरफ्तार:

अरुण फरेरिया ने कहा कि सुबह 6 बजे से उनके घर पर रेड चल रही है, लेकिन उन्हें अभी ये नहीं पता है कि पुलिस सिर्फ छानबीन करेगी या फिर गिरफ्तार भी करेगी।  उन्होंने कहा कि वह बिल्कुल निर्दोष हैं।

अरुण फरेरिया की पत्नी ने कहा कि जब तक ये छापेमारी चल रही है, तबतक वे कोई बात नहीं कर सकते हैं। गौरतलब है कि अरुण को पहले भी कई बार गिरफ्तार किया जा चुका है, लेकिन हर बार वह बाहर आ जाते हैं।  अरुण पिछले काफी समय से मुंबई में कई आंदोलनों में हिस्सा लेते आ रहे हैं।

क्या है इन गिरफ्तारियों के पीछे का रहस्य:

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में जून में हुई गिरफ्तारी में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए थे।  पुलिस का दावा था कि तब गिरफ्तार कई लोगों के पास से ऐसी चिट्ठी मिली थी, जिसमें ये लिखा था कि नक्सली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रच रहे थे।  नक्सली पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की तरह ही पीएम मोदी की हत्या करना चाहते थे।

क्या था चिट्ठी में:

दरअसल, इस साल जून में माओवादियों की एक चिट्ठी सामने आई थी, जिसमें राजीव गांधी की तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रचने का खुलासा हुआ था।  18 अप्रैल को रोणा जैकब द्वारा कॉमरेड प्रकाश को लिखी गई चिट्ठी में कहा गया कि हिंदू फासिस्म को हराना अब काफी जरूरी हो गया है।  मोदी की अगुवाई में हिंदू फासिस्ट काफी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, ऐसे में इन्हें रोकना जरूरी हो गया है।

इसमें लिखा गया था कि मोदी की अगुवाई में बीजेपी बिहार और बंगाल को छोड़ करीब 15 से ज्यादा राज्यों में सत्ता में आ चुकी है।  अगर इसी तरह ये रफ्तार आगे बढ़ती रही, तो माओवादी पार्टी को खतरा हो सकता है।  इसलिए वह सोच रहे हैं कि एक और राजीव गांधी हत्याकांड की तरह घटना की जाए।

इस चिट्ठी में कहा गया था कि अगर ऐसा होता है, तो ये एक तरह से सुसाइड अटैक लगेगा।  हमें लगता है कि हमारे पास ये चांस है।  मोदी के रोड शो को टॉरगेट करना एक अच्छी प्लानिंग हो सकती है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804