GLIBS
09-07-2019
महीने में दो बार गांव जाकर लोगों की सुलझाएं समस्याएं : सीएम कमलनाथ

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि जनहित के काम में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ की गई कार्यवाही को प्रचारित करें, ताकि आम लोगों को पता चले और अन्य  लापरवाह अधिकारियों को भी सबक मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा व्यवस्था में प्राप्त शिकायतों और समस्याओं का  समाधान शत-प्रतिशत होना चाहिए। 
मुख्यमंत्री आज यहां मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जनाधिकार कार्यक्रम में कलेक्टरों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने 10 जिलों के 12 लोगों की समस्याओं का समाधान किया। उन्होंने कलेक्टरों से कहा कि शिकायतें आने पर ही निराकरण करने की संस्कृृति को समाप्त करें। जिलों के सेवा प्रदाय तंत्र को ऐसा चुस्त दुरूस्त रखें कि शिकायतों की संख्या निरंतर कम होती जाए। उन्होंने कहा कि समय पर समाधान न करने वालों की जिम्मेदारी तय हो और उन पर की जाने वाली कार्यवाई की बुकलेट बनाई जाए ताकि लोगों को अपने दायित्व का भान हो सके। मुख्यमंत्री ने 'आपकी सरकार-आपके द्वार' कार्यक्रम के संबंध में कलेक्टरों से चर्चा करते हुए कहा कि वे महीने में दो बार किसी एक ब्लाक और गांव में जाकर लोगों की समस्याएं सुनने और तत्काल निराकरण हो सकने योग्य समस्याओं का स्थल पर ही निराकरण करें। उन्होंने कलेक्टरों से राज्य मुख्यालय को प्रत्येक माह रिपोर्ट देने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने जिलों में खाद-बीज की उपलब्धता के संबंध में पूछा तो कलेक्टरों ने बताया कि खाद-बीज की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कई मुद्दों पर कलेक्टरों से बात की और निर्देश दिये। स्कूल चलें हम अभियान के अंतर्गत दाखिला मिले बच्चों के संबंध में  नाथ ने कहा कि यह देखना होगा कि दाखिला लिये बच्चा किसी भी कारण से स्कूल नहीं छोड़े।  
मुख्यमंत्री ने सीएम हेल्पलाइन 181 की समीक्षा करते हुए कहा कि प्रयोग के तौर पर तीन जिलों की अपनी हेल्पलाइन स्थापित करें और इसका परिणाम देखें। इसी प्रकार प्रत्येक सेक्टर के लिए अलग-अलग हेल्पलाइन भी स्थापित की जा सकती है। 
मुख्यमंत्री ने उज्जैन जिले के बडऩगर विकासखंड के मकबूल की उपार्जन का भुगतान न होने संबंधी शिकायत, गुना के मकसूदनगढ़ की ताराबाई को प्राकृतिक प्रकोप का राशि नहीं मिलने संबंधी शिकायत, शहडोल के जयसिंहनगर के  प्रभुदयाल की बेटी को छात्रवृत्ति न मिलने, सागर में गोड़झामर के बद्रीप्रसाद, मंदसौर के शराफत, टीकमगढ़ के दीनदयाल, राजगढ़ के रामचन्द्र सोलंकी, बड़वानी के  विजय, देवास के बलराम कोक को जननी सुरक्षा का लाभ न मिलने जैसी शिकायतों का निराकरण किया। इस अवसर पर सभी संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 

22-06-2019
लुधियाना में नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ लगे पोस्टर, पूछा- अमेठी से हार गए राहुल गांधी, आप राजनीति कब छोड़ेंगे!

चंडीगढ़। कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधते हुए पंजाब के लुधियाना में पोस्टर लगाए गए हैं। पखोवाल रोड पर लगाए गए इन पोस्टरों में सिद्धू के राजनीति छोड़ने पर सवाल उठाए गए हैं। दरअसल सिद्धू ने कहा था कि अगर लोकसभा चुनावों में राहुल गांधी अमेठी से हारे तो वह राजनीति छोड़ देंगे। वहीं राहुल गांधी अमेठी से बीजेपी नेता स्मृति ईरानी से 55,120 वोटों से चुनाव हार गए थे।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर मोहाली में पोस्टर लगाए गए थे। दरअसल, लोकसभा चुनाव के दौरान नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा था कि अगर राहुल गांधी अमेठी से चुनाव हार गए तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे। सिद्धू को क्या पता था कि 'मोदी लहर' में राहुल गांधी अमेठी से चुनाव हार जाएंगे जिसे गांधी परिवार का सबसे मजबूत गढ़ कहा जाता है। सिद्धू के इसी बयान को आधार बनाकर मोहाली में पोस्टर लगाए गए थे। अंग्रेजी और पंजाबी में लगाए गए पोस्टरों में लिखा था, ''तो आप राजनीति कब छोड़ रहे हैं...समय आ गया है अब आप बात रखें...हम आपके इस्तीफे की प्रतीक्षा कर रहे हैं'। 
 

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद भी नवजोत सिंह सिद्धू अपने इसी बयान की वजह से सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए थे। उन्हें काफी आलोचना भी झेलनी प़़ड़ी थी। गौरतलब है कि राहुल गांधी को मोदी सरकार में मंत्री स्मृति ईरानी ने 55 हजार 120 मतों के अंतर से पराजित किया। इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को 408,651 वोट मिले थे जबकि भाजपा प्रत्याशी स्मृति ईरानी को 300,748 वोट मिले थे। तब कांग्रेस अध्यक्ष ने केंद्रीय मंत्री को 1,07,000 वोटों के अंतर से हराया था। राहुल गांधी अमेठी से लगातार तीन बार सांसद रहे। उन्होंने 2009 में यह सीट 3,50,000 से भी ज्यादा मतों से जीती थी। कांग्रेस अध्यक्ष यहां से पहली बार 2004 में चुन कर संसद पहुंचे थे।

19-06-2019
न्यूजीलैंड के खिलाफ द. अफ्रीका के लिए करो या मरो का मुकाबला

बर्मिंघम। अंक तालिका में दूसरे स्थान पर चल रही न्यूजीलैंड के खिलाफ आईसीसी क्रिकेट विश्वकप मंं दक्षिण अफ्रीका का बुधवार को बर्मिंघम में करो या मरो का मुकाबला होगा। टूर्नामेंट में बने रहने और सेमीफाइनल की होड़ में बरकरार रहने के लिए दक्षिण अफ्रीका को न्यूजीलैंड के खिलाफ हर हाल में मुकाबला जीतना होगा। दक्षिण अफ्रीका के पांच मैचों में तीन हार, एक जीत और एक रद्द परिणाम से तीन अंक हैं और वह फिलहाल अंक तालिका में आठवें स्थान पर है जबकि टूर्नामेंट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही न्यूजीलैंड के चार मैचों में तीन जीत और एक मैच रद्द हो जाने से सात अंक हैं। भले ही न्यूजीलैंड इस मुकाबले का दावेदार है लेकिन दक्षिण अफ्रीका के पास भी बेहतरीन टीम है और ऐसे खिलाड़ी हैं जो मैच का रुख अपनी ओर मोड़ने में सक्षम हैं। हालांकि दक्षिण अफ्रीका इस विश्वकप में उम्मीदों के अनुरुप प्रदर्शन कर पाने में अभी तक नाकाम रही है। दक्षिण अफ्रीका को पहले मैच में मेजबान इंग्लैंड के हाथों करारी पराजय झेलनी पड़ी थी लेकिन दूसरे मैच में उसे बंगलादेश ने बड़ा उलटफेर करते हुए 21 रन से पराजित किया था। दक्षिण अफ्रीका का तीसरा मुकाबला भारत से था और वहां भी उसे मुंह की खानी पड़ी थी।

 

18-06-2019
चिटफंड घोटाला मामला: 20 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज

अंबिकापुर। चिटफंड कंपनी अनमोल इंडिया की ओर से निवेशकों की राशि वापस नहीं किए जाने के मामले में पुलिस ने 20 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। जानकारी के मुताबिक हितग्राहियों के पैसे ना मिलने पर अदालत में परिवाद दायर किया गया था। मियाद अवधि पूरी हो जाने के बावजूद उन्हें मूलधन तक वापस नहीं की गई। इसके बाद यह कार्रवाई की गई है। अभिषेक सिंह, मधुसूदन यादव, नरेश डाकलिया आदि के खिलाफ धारा 420,34 तथा छत्तीसगढ़ के निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा दस के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है।

 

03-06-2019
अघोषित बिजली कटौती के खिलाफ  शिवसेना लामबंद 

जैजैपुर। जैजैपुर क्षेत्र के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में हो रही अघोषित बिजली कटौती ने राज्य सरकार के दावों की पोल खोलकर रख दी है। इस भीषण गर्मी में जहां एक पल भी बगैर कूलर व पंखे के रह पाना बहुत ही कठिन है। ऐसे में अघोषित बिजली कटौती किए जाने से क्षेत्र के लोगों का गुस्सा होना लाजिमी है। इसी अघोषित बिजली कटौती के खिलाफ  शिवसेना जिलाध्यक्ष ठाकुर ओंकार सिंह गहलोत के निर्देशानुसार जिला सचिव ने  राज्यपाल के नाम तहसीलदार जैजैपुर को ज्ञापन सौंपा है। शिवसेना जिला सचिव चंदन धीवर ने अपने ज्ञापन में कहा है कि विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने दावा किया था कि उनकी सरकार बनती है तो छत्तीसगढ़ में जीरो पावर कट होगा। साथ ही प्रदेश के विद्युत उपभोक्ताओं का बिजली बिल आधा कर दिया जाएगा। लोकसभा चुनाव के पहले विद्युत उपभोक्ताओं को कम बिजली बिल भेजा गया, लेकिन चुनाव के ठीक बाद फिर से अधिक बिजली बिल भेजा जा रहा है। इसी तरह शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में अघोषित बिजली कटौती किए जाने से आम लोग त्रस्त हैं। इस तरह अघोषित बिजली कटौती से आम लोग जहां भीषण गर्मी में उबल रहे हैं, तो वहीं बिजली के बिना लोगों का व्यवसाय बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। उन्होंने ज्ञापन में जरिए तत्काल बिजली कटौती बंद करते हुए वादे के अनुरूप बिजली बिल आधा करने का आग्रह किया है।

03-06-2019
तीन तलाक के खिलाफ  बिल लाएगी मोदी सरकार : रविशंकर प्रसाद

 

नई दिल्ली। केंद्र सरकार तीन तलाक पर प्रतिबंध लगाने के लिए संसद में बिल लेकर आएगी। इसकी जानकारी कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी। पिछले महीने 16वीं लोकसभा भंग होने के बाद तीन तलाक पर प्रतिबंध का बिल गिर गया है। दोबारा संसद में यह बिल लाए बिना पास नहीं हो सकता, इसलिए सरकार इस प्रक्रिया पर आगे बढ़ेगी। पिछली बार यह विवादित बिल लोकसभा में तो पारित हो गया था लेकिन राज्यसभा में लंबित था। अभी हाल में 17वीं लोकसभा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत अन्य सांसदों ने मंत्री पद की शपथ ली है। 17 जून से संसद का सत्र भी शुरू हो रहा है जिसमें यह बिल लाया जाएगा। नियमों के मुताबिक जो बिल राज्यसभा में पेश हो जाते हैं लेकिन वहां लंबित होते हैं, वो लोकसभा भंग होने के बावजूद समाप्त नहीं होते। हालांकि जो बिल लोकसभा में पारित हो जाते हैं लेकिन राज्यसभा में लंबित होते हैं, वो लोकसभा भंग होते ही गिर जाते हैं। विपक्ष राज्यसभा में तीन तलाक बिल का विरोध करता रहा है। राज्यसभा में विपक्ष मजबूत है क्योंकि सत्ता पक्ष के सदस्यों की संख्या यहां काफी कम है। हालांकि लोकसभा चुनाव में भारी जीत के बाद एनडीए के पास अगले साल के अंततक राज्यसभा में बहुमत हो जाएगा और उसके बाद मोदी सरकार के लिए अपने विधायी एजेंडे को आगे बढ़ाने में आसानी हो जाएगी। 

20-05-2019
माया-अखिलेश पर टिप्पणी करने पर सीएम योगी के खिलाफ  कोर्ट में वाद दायर 

 

 मैनपुरी। समाजवादी प्रबुद्ध प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष पूर्व एसपीओ रामदास निगम ने सीजेएम कोर्ट में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ  धारा 156 (3) के तहत अपने अधिवक्ता पूर्व विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट रामसेवक के माध्यम से वाद दायर किया है। सीजेएम ममता सिंह ने मामले की सुनवाई के लिए 21 मई की तारीख तय की है। रामदास निगम के 21 मई को सीजेएम कोर्ट में बयान दर्ज किए जाएंगे। थाना कोतवाली के मोहल्ला आजाद नगर निवासी रामदास निगम पूर्व एसपीओ हैं। वह समाजवादी पार्टी प्रबुद्ध प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष हैं। उन्होंने दायर वाद में कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ और जौनपुर की चुनावी सभाओं में पूर्व मुख्यमंत्री सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को गुंडों का सरताज और पूर्व मुख्यमंत्री बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती को भ्रष्टाचार की प्रतिमूर्ति कहा है, जबकि किसी भी जांच एजेंसी ने आज तक अखिलेश यादव को अपराधी नहीं माना है। मुख्यमंत्री के बयान को छह मई 2019 को अखबारों में प्रमुखता से छापा गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान को अहतशाम हुसैन हाशमी एडवोकेट, रामप्रकाश पाल एडवोकेट, अशोक कुमार सिंह एडवोकेट अध्यक्ष डॉक्टर अंबेडकर बार एसोसिएशन, प्रमोद कुमार यादव निवासी अंजनी थाना बिछवां ने भी अखबारों में पढ़ा है। दायर वाद में बताया गया है कि जब उन्होंने थाना कोतवाली में मामले की तहरीर दी तो पुलिस ने रिपोर्ट नहीं लिखी। इसके बाद एसपी को रजिस्ट्री से भेजी गई शिकायत पर भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। मुख्यमंत्री के बयान से समाजवादी पार्टी से जुड़े लोगों तथा समाजवादी नीति को मानने वालों की भावनाएं आहत हुई हैं। मुख्यमंत्री के खिलाफ  आईपीसी की धारा 500 तथा एससी-एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई किए जाने की मांग की गई है। सीजेएम ममता सिंह ने वाद की सुनवाई के लिए 21 मई की तारीख तय की है। सीजेएम कोर्ट में रामदास निगम के 21 मई को ही बयान दर्ज किए जाएंगे।

14-05-2019
पीएम मोदी के खिलाफ प्रचार करने 15 मई को वाराणसी जाएंगे सीएम भूपेश बघेल

रायपुर। लोकसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण के प्रचार में सियासी दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इसी कड़ी में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पार्टी के प्रचार के लिए 15 मई को बहुचर्चित संसदीय सीट वाराणसी जाएंगे। यहां वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरुद्ध प्रचार में हिस्सा लेगें। सीएम भूपेश बघेल कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनावी सभा और रोड शो करेंगे। सातवें और अंतिम चरण के 19 मई को मतदान होगा। इसमें 8 राज्यों की 59 सीटें में मतदान होगा। इसमें बिहार 8, झारखंड 3, मध्यप्रदेश 8, पंजाब 13, चंडीगढ़ 1, पश्चिम बंगाल 9, हिमाचल 4, उत्तर प्रदेश 13 सीटें में वोट डाले जाएंगे।

07-05-2019
सुप्रीम कोर्ट के बाहर सीजेआई के खिलाफ  प्रदर्शन, 52 महिलाएं गिरफ्तार

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के खिलाफ  यौन शोषण मामले से निपटने के लिए अपनाई गई प्रक्रिया के खिलाफ  दिल्ली में उच्चतम न्यायालय के बाहर महिलाओं ने मंगलवार को जमकर प्रदर्शन किया।  प्रदर्शनकारियों में अधिकतर महिला वकील और कार्यकर्ता थे। इनमें से 55 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। बता दें कि गोगोई को उच्चतम न्यायालय की आंतरिक जांच समिति ने सोमवार को क्लीन चिट दे दी थी।  ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट की एक पूर्व महिला कर्मचारी ने प्रधान न्यायाधीश पर यौन उत्पीडऩ के आरोप लगाए थे। नई दिल्ली के पुलिस उपायुक्त मधुर वर्मा ने बताया कि इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हंै। 52 महिला प्रदर्शनकारियों समेत तीन पुरुषों को हिरासत में लिया गया और मंदिर मार्ग पुलिस थाने ले जाया गया है।

 

03-05-2019
आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में तेज बहादुर के खिलाफ मुकदमा दर्ज

वाराणसी। बीएसएफ के बर्खास्त जवान और वाराणसी संसदीय सीट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नामांकन भरकर  चर्चित रहे तेज बहादुर के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है। शिकायत है कि तेज बहादुर का नामांकन पत्र बुधवार को निर्वाचन अधिकारी द्वारा खारिज कर दिए जाने के बाद समर्थकों ने कलेक्टोरेट में जमकर हंगामा किया था। इसको लेकर अधिवक्ता कमलेश चंद्र त्रिपाठी ने तेज बहादुर के खिलाफ कैंट थाने में तहरीर दी। तहरीर में कहा गया है कि तेज बहादुर ने भीड़ इक_ा कर लोकसभा चुनाव आचार संहिता और धारा 144 का उल्लंघन किया है। उनके कारण कलेक्टोरेट परिसर में अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया था। कैंट थाना प्रभारी विजय बहादुर सिंह ने बताया कि अधिवक्ता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। यदि तेज बहादुर दोषी पाए जाएंगे तो विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी।


 

19-04-2019
कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद दुबे और बसपा प्रत्याशी खिलेश्वर साहू के खिलाफ  कार्रवाई की मांग 

रायपुर। बहुजन समाज पार्टी के रायपुर लोकसभा प्रत्याशी खिलेश्वर कुमार साहू के साथ खरीद-फरोख्त कर अपने समर्थन करने के मामले में बसपा कार्यकर्ता कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद दुबे और खिलेश्वर साहू के खिलाफ  शिकायत करने निर्वाचन आयोग पहुंचे। बसपा के पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट सदानंद मारकण्डेय ने बताया कि कांग्रेस लोकसभा के रायपुर प्रत्याशी प्रमोद दुबे ने बसपा लोकसभा के रायपुर प्रत्याशी खिलेश्वर कुमार साहू के साथ खरीद-फरोख्त कर अपने समर्थन में कर लिया है। इसकी बहुजन समाज पार्टी घोर निंदा करती है। साथ ही निर्वाचन आयोग से यह मांग करते हैं कि कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद को चुनाव लडऩे से प्रतिबंधित किया जाए और प्रमोद दुबे व खिलेश्वर कुमार साहू के खिलाफ  कानून के तहत कार्रवाई की जाए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804