GLIBS
13-07-2019
नक्सलियों ने की टीआरएस नेता श्रीनिवास राव की हत्या, शव को फेंका सुकमा के जंगल में

जगदलपुर। तेलंगाना से तीन दिन पहले अपहरण किए गए टीआरएस नेता और पूर्व विधायक श्रीनिवास राव की नक्सलियों ने हत्या कर दी है। उनकी लाश छत्तीसगढ़-तेलंगाना बार्डर के निकट सुकमा जिले के किस्टाराम के एरमपाडू और पुट्टापाडू के बीच सड़क किनारे पड़ा मिला। शव के पास ही नक्सलियों ने पर्चे भी फेंके। इसमें कहा गया है कि टीआरएस नेता राव तेलंगाना इंटेलीजेंस के लिए काम करते थे और लोगों को भी मुखबिरी के काम में लगा रहे थे। साथ ही यह भी आरोप लगाया कि आदिवासियों की 70 एकड़ जमीन पर कब्जा भी कर लिया था। जमीन मांगने पर नक्सली मामलों में पुलिस के साथ मिलकर पीड़ितों को फंसा रहे थे। 

जानकारी के मुताबिक, तेलंगाना के भद्रादी कोठागुड़म जिले में उनके गृहग्राम कोथुर से सोमवार रात को नक्सलियों ने टीआरएस नेता श्रीनिवास राव का अपहरण कर लिया था। राव की पत्नी दुर्गा राव का कहना था कि एक दर्जन से ज्यादा लोग उनके पति को अगवा करने आए थे। इस दौरान पहले राव की पिटाई की गई, इसके बाद घसीटते हुए घर से बाहर ले गए। इसके बाद से लगातार उनकी रिहाई के लिए परिवार के सदस्य नक्सलियों से गुहार लगा रहे थे। वहीं तेलंगाना और छत्तीसगढ़ की पुलिस उन्हें ढूंढने में लगी थी। शुक्रवार को उनकी लाश मिलने के बाद परिवार में शोक की लहर दौड़ गई। 

 नक्सलियों ने श्रीनिवास की हत्या के दो प्रमुख कारण भी बताए हैं।  उनकी लाश के पास फेंके गए पर्चें में कहा गया है कि श्रीनिवास तेलंगाना इंटेलिजेंस के लिए काम कर रहे थे। वे खुद तो नक्सलियों की मुखबिरी कर रहे थे साथ में ग्रामीणों को भी इस काम में लगा रखा था। इसके अलावा उनकी हत्या के पीछे की एक बड़ी वजह भी नक्सलियों ने बताई है। इसमें कहा गया है कि श्रीनिवास ने आदिवासियों की 70 एकड़ जमीन पर कब्जा कर लिया था। आदिवासी जब इसका विरोध करते या जमीन खाली करने कहते तो वह उन्हें पुलिस के साथ मिलकर झूठे नक्सली मामलों में फंसा देते थे। ऐसे में उसे सजा दी गई है। 

टीआरएस नेता की हत्या की जिम्मेदारी नक्सलियों की शबरी एरिया कमेटी की सेक्रेटरी शारदा ने ली है। माना जा रहा था कि अपहरण के बाद तेलंगाना से राव को छत्तीसगढ़ लाया गया था। तेलंगाना के नक्सलियों ने सुकमा इलाके में तैनात नक्सलियों की बटालियन नंबर एक की मदद लेकर श्रीनिवास को दक्षिण सुकमा बॉर्डर वाले इलाके में रखे जाने की आशंका थी। राव की आखिरी लोकेशन भी चंदा-कोट्टापदु के जंगलों में मिली थी, जो छत्तीसगढ़ के जंगलों से मिला हुआ है। इधर, भद्रादरी कोत्तागुडूम जिले के एसपी सुनील दत्त ने कहा कि श्रीनिवास किसानों और ग्रामीणों के लिए अच्छा काम कर रहे थे। उनके हत्यारों को छोड़ा नहीं जाएगा।

11-07-2019
दुष्कर्म के दोषी को फांसी की सजा का फैसला स्वागत योग्य : कमलनाथ

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राजधानी भोपाल में एक बालिका से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को आज फांसी की सजा के फैसला का स्वागत करते हुए कहा कि न्यायालय का यह फैसला स्वागत योग्य है। श्री कमलनाथ ने अपने ट्वीट में कहा कि भोपाल की मांडवा बस्ती में 8 जून को हुई मासूम बालिका के साथ दुष्कर्म और हत्या की घटना के आरोपी को आज न्यायालय द्वारा त्वरित लिया गया फांसी की सजा का फैसला स्वागत योग्य है।

राजधानी भोपाल के कमला नगर थाना क्षेत्र के मांडवा बस्ती में गत आठ जून को बालिका की दुष्कर्म के बाद हत्या कर शव नाले में फेंक दिया गया था। पुलिस ने शव बरामद कर आरोपी विष्णु को खंडवा जिले से गिरफ्तार किया था। पुलिस प्रशासन ने इस मामले में शीघ्रता दिखाते हुए चालान अदालत में पेश कर दिया था।

28-06-2019
कोदवा में 35 वर्षीय विवाहिता महिला की हत्या

बेमेतरा। बेरला ब्लाक एवं साजा थाना के ग्राम कोदवा में शीतला मंदिर के पास विवाहिता महिला की हत्या हो गई है। मिली जानकारी के अनुसार घटना शुक्रवार सुबह 9 बजे के आसपास की है। महिला के पिता कार्तिक बंजारे ने बताया कि मेरी लड़की रात्रि में दामाद के साथ आयी थी और सुबह जानकारी मिली कि दामाद ने अपनी पत्नी को कुदाल से हत्याकर फरार हो गया है। मृतक विवाहिता महिला सुखबती पति दिनेश उम्र 35 साल  और  3 बच्चों की मां थी। सुचना मिलने पर बेरला एसडीओपी जोशी,साजा टीआई वासनिक टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर जांच में जुट गई है।

23-06-2019
इथोपिया में सेना प्रमुख कर रहा था तख्तापलट की कोशिश, उनके ही बॉडी गार्ड ने किया यह हाल

इथोपिया। इथोपिया के प्रधानमंत्री अबिय अहमद ने आज टीवी पर संदेश प्रसारित कर बताया है कि सरकार ने देश के एक स्वायत प्रांत में तख्ता पलटने की कोशिश कर रहे देश के सेना प्रमुख की हत्या कर दी है। सैन्यवर्दी पहने हुए अहमद ने बताया कि सेना प्रमुख सीअरे मेकोनेन को उन्हीं के सुरक्षाकर्मियों ने गोली मार दी। अमेरिकी दूतावास ने राजधानी अदीस अबाबा और बहिर दार में गोलीबारी को लेकर अपने कर्मचारियों को सतर्क किया है और उनसे सुरक्षित रहने को कहा है।

अमेरिकी दूतावास ने दो अलर्ट जारी करते हुए अपने अधिकारियों और कर्मचारियों को सचेत रहने को कहा है। प्रधानमंत्री अबिय अहमद के कार्यालय की ओर से जानकारी दी गई है कि देश के नौ स्वायत्त क्षेत्रों में से एक अमहारा में तख्तापलट का प्रयास किया जा रहा था। अमहारा क्षेत्रीय राज्य में तख्तापलट का प्रयास संविधान के खिलाफ है। इस तरह के सैन्य तख्ता पलट के खिलाफ हर किसी को आवाज उठानी चाहिए। इथियोपियाई लेागों को इस तरह के प्रयास की निंदा की जानी चाहिए।

22-06-2019
महरौली में पत्नी और तीन बच्चों की हत्या

नई दिल्ली। दक्षिणी दिल्ली के महरौली इलाके में एक शख्स ने पत्नी और तीन बच्चों की हत्या कर दी। दक्षिणी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने शनिवार को बताया कि महरौली में उपेंद्र शुक्ला (42) नाम के व्यक्ति ने शुक्रवार देर रात पत्नी, एक बेटे और दो बेटियों की गला रेतकर हत्या कर दी। पत्नी का नाम अर्चना है। शुरूआती जानकारी के अनुसार आरोपी डिप्रेशन का शिकार था। उसने एक नोट में यह बात लिखी है कि चारों हत्याएं उसने की हैं। बच्चों की उम्र क्रमश: 6 साल , 5 साल और 2 महीने है। उन्होंने बताया कि उपेंद्र ने खुद नोट लिखकर हत्या की बात कबूली है लेकिन उसने इसके पीछे की वजह फिलहाल नहीं बताई है। पुलिस ने उपेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

19-06-2019
नक्सलियों ने की अपहरण कर समाजवादी पार्टी के नेता की हत्या

बीजापुर। नक्सलियों ने कायरना हरकत को अंजाम दिया है। नक्सलियों ने बीजापुर जिले में समाजवादी नेता का अपहरण कर हत्या कर दी है। मिली जानकारी के अनुसार नक्सलियों ने समाजवादी पार्टी के उपाध्यक्ष संतोष पूनम का मंगलवार को अपहरण किया और बुधवार सुबह उन्हें मौत के घाट उतार दिया। बीजापुर एसपी दिव्यांग पटेल ने वारदात की पुष्टि की है। बताया जा रहा है नक्सलियों ने इलमिडी थाना क्षेत्र के मरिमल्ला गांव के नजदीक वारदात को अंजाम दिया। हत्या क्यों की गई इसके कारण का खुलासा नहीं हो पाया है। पुसिल घटनास्थल में पहुंचकर जांच में जुटी ही है।

18-06-2019
उत्तर प्रदेश में यादव समाज पर प्रताड़ना, हत्या के खिलाफ कमिश्नर कार्यालय में प्रदर्शन, सौंपा ज्ञापन

इंदौर। उत्तरप्रदेश में निरंतर हो रही यादव समाज के लोगों की हत्या पर सत्यशोधक समाज एवं मध्यप्रदेश,ओबीसी, पिछडा वर्ग मोर्चा, यादव महासभा के अंदर भारी आक्रोश हैं। ओबीसी मोर्चा, पिछड़ा वर्ग, यादव महासभा के नेतृत्व में मंगलवार को संभागायुक्त कार्यालय में ओबीसी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सदाशिव यादव अंतरराष्ट्रीय सत्यशोधक समाज के संयोजक हुकुमचंद यादव, निर्मल मनोरिया अखिल भारतीय यादव महासभा के जिला अध्यक्ष रामसमुझ यादव मध्य प्रदेश ओबीसी मोर्चा के युवा अध्यक्ष अशोक यादव, अखिल भारती यादव समाज के संयोजक डॉ.अशोक यादव, वरिष्ठ अभिभाषक एवं समाजसेवी गोवर्धन यादव, कैलाश साहू आदि ने सैकड़ों लोगों के साथ प्रदर्शन कर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यादव समाज पर हो रही प्रताड़ना और हत्याओं के खिलाफ राष्ट्रपति के नाम संभागायुक्त को ज्ञापन सौंपा। यादव समाज को न्याय मिल सके दोषियों को सजा मिल सके। इसके लिए कमिश्नर कार्यालय पर राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया गया।
सामंतवादी ताकतों सरकार द्वारा उत्तरप्रदेश के अंदर नौजवान यादव की हत्या हो रही है, जिसको लेकर सत्यशोधक समाज ने कमिश्नर कार्यालय गांधीहाल पर राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया।सत्यशोधक समाज अंतर्राष्ट्रीय ओबीसी पिछड़ा वर्ग मोर्चा एवं यादव समाज महासभा, सभी पिछड़ा वर्ग समाज के बन्धुओं की उपस्थिति में ज्ञापन कमिश्नर को दिया। ज्ञापन के माध्यम से अवगत कराया कि अगर सरकार ने हत्या पर लगाम नहीं लगाती है और दोषियों पर कार्रवाई नहीं की जाती है तो आंदोलन किया जायेगा। प्रदर्शन में सत्यशोधक समाज के सयोंजक हुकुमचंद जादम,ओबीसी प्रदेश अध्यक्ष सदाशिव यादव, दीपक मलोरिया,ओबीसी युवा प्रदेश अध्यक्ष अशोक यादव (जय गोपाला), रामसमुझ यादव, रामकेवल यादव, रतीपाल यादव, श्याम यादव, शहर अध्यक्ष राजेश यादव, राकेश यादव,कैलाश साहू,दिनेश चौहान उपस्थित थे।

 

15-06-2019
हत्या कर शव दफनाने के मामले में आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

 

पसान। डेढ़ माह पूर्व दर्रीपारा निवासी अनिल चौधरी के गायब होने की शिकायत उसके भाई दुर्गेश चौधरी ने पसान थाने में दर्ज कराई थी। तभी कुछ दिन बाद ग्राम पसान के दर्रीपारा में एक अज्ञात शव के शरीर का कुछ हिस्सा देखकर अपने भाई अनिल चौधरी का शव होने की संदेश पर दुर्गेश चौधरी ने मर्ग कायम कराया गया। तत्पश्चात शव को विधिवत मजिस्ट्रेट के उपस्थिति में शव उत्खनन कराया गया, जिसमें शव के कपड़े, शारीरिक  बनावट के आधार पर शव को अनिल चौधरी का होना पाया गया। अनिल चौधरी को उसके ससुराल वालों के द्वारा मारकर हत्या कर शव को छुपाने के नियत से शव को दफन कर देने की संदेश पर अज्ञात आरोपी के विरुद्ध थाना में अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना लिया गया। विवेचना दौरान संदेशी आरोपी राजकुमार चौधरी एवं उसके परिवार वालो की पता तलाश की जा रही थी। पतासाजी दौरान ग्राम लरघाडंडी थाना कोटाडोल जिला कोरिया में पता चलने पर पुलिस द्वारा एक टीम यहाँ भेजी गई। पुलिस वाहन को अपने घर तरफ आते देख राजकुमार उसकी नानी जमुना बाईं उसकी बहन फूलमती घर से भाग गए। पुलिस पहुँचने पर आरोपी के पिता द्वारा पुलिस को गुमराह किया गया कि घर के सभी सदस्य सुबह पसान गए है। संदेह के आधार पर राजकुमार चौधरी  की पतासाजी की जा रही थी   । उसी दौरान 14 जून को राजकुमार को पसान दर्रीपारा में देखे जाने की सूचना पर रात्रि में दबिश देकर राजकुमार को पकड़ा गया। थाने में पूछताछ करने पर राजकुमार ने बताया मृतक उसकी छोटी बहन से आये दिन छेड़छाड़ करता था। घटना समय में अनिल शराब पीकर छेड़छाड़ कर रहा था, आरोपी द्वारा विरोध किये जाने पर मृतक अनिल चौधरी द्वारा गाली गलौच एवं मारपीट करने पर आरोपी राजकुमार चौधरी द्वारा आँगन में पड़े टांगी से अनिल चौधरी के सिर में टांगी के पासे की तरफ से तीन बार घातक प्रहार कर हत्या कर दिया गया।  घटना के सम्बंध में किसी को पता न चले सोचकर शव को अपने पिता, भाई,नानी एवं बहनो के सहयोग से शव को घर के पास करीब 30 मीटर की दूरी पर आम पेड़ के पास दफन कर दिया। चूँकि शव जमीन के ऊपरी हिस्से में होने से 10 -15  दिन बाद शव से बदबू आने लगा तब पुनः राजकुमार अपने  भाई नानी के मदद से अनिल चौधरी के शव को घर से करीब 300 मीटर की दूरी पर खेत में गड्ढा कर दफन कर दिया। चुकी रात्रि में घबराहट की वजह से शव को अच्छे से दफन नही कर पाया । शव का कुछ हिस्सा दिखाई दे रहा था जिसे आसपास के  महिलाओं ने बकरी चराते समय देखा । इसी बीच मृतक का भाई संतोष चौधरी को पता चला तब वह शव को देखने गया जिसको अनिल चौधरी का होना संदेश जाहिर कर अनिल चौधरी के भाई दुर्गेश चौधरी भालूमाड़ा जिला अनूपपुर को सूचना दिया तब दुर्गेश चौधरी द्वारा अपने भाई की हत्या होने की संदेश पर थाना पसान में मर्ग ईटीमेशन एवं प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराया। विवेचना के दौरान दिनांक 15/06/2019 को आरोपी राजकुमार को पुलिस हिरासत में पूछताछ कर गवाहों के मेमोरंडम कथन के आधार पर आरोपी के बाड़ी में फेका गया टांगी को ज़ब्त किया गया। आरोपी द्वारा मृतक अनिल चौधरी की हत्या कर शव को अपने परिवार पिता सुखसेन चौधरी, नानी जमुना बाई ,दीदी फूलमती, भाई नाबालिग रवि, नाबालिग बहन के सहयोग से शव को छुपाना जुर्म स्वीकार करने पर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।

14-06-2019
अपने ही 5 बच्चों की हत्या करने वाले पिता को मौत की सजा, पत्नी बोली- 'बच्चे इसे प्यार करते थे, इसे जीने दो...'

नई दिल्ली। अपने पांच बच्चों की हत्या के जुर्म में दोषी ठहराए गए एक अमेरिकी व्यक्ति को बृहस्पतिवार को मौत की सजा सुनाई गई। हालांकि उसकी पत्नी ने यह कहते हुए अपने पति की जान बख्शे जाने की मांग की थी कि बच्चे अपने पिता से बहुत प्यार करते थे। आरोपी टिमोथी जोन्स (37) के मामले की सुनवाई के दौरान दलील दी थी कि उनका मुवक्किल ‘सीजोफ्रेनिक' है इसलिए वह इस हालत में नहीं है कि उसके खिलाफ मामला चलाया जा सके।

जोन्स को 2014 में अपने पांच बच्चों, जिनकी उम्र एक से आठ साल के बीच थी, की हत्या का दोषी पिछले साल ठहराया गया था। दोषी की पूर्व पत्नी ने जब दक्षिण कैरोलीना की अदालत में ज्यूरी से अपने पूर्व पति को जिंदा रहने देने की अपील की तो पूरी अदालत स्तब्ध रह गई। खबरों के मुताबिक उसकी पूर्व पत्नी अंबर केजर ने कहा, 'उसने मेरे बच्चों पर किसी तरह की कोई दया नहीं दिखाई लेकिन बच्चे उसे प्यार करते थे और अगर मैं अपनी ओर से नहीं, बच्चों की तरफ से बोलूं तो मुझे बस यही कहना है।' 
केजर ने कहा कि उसने बच्चों का संरक्षण जोन्स को इसलिए दिया था क्योंकि एक कंप्यूटर इंजीनियर के तौर पर वह उससे ज्यादा कमाता था। ज्यूरी को अपना फैसला सुनाने में दो घंटे से भी कम वक्त लगा। गौरतलब है कि जोन्स ने अदालत में कहा था कि उसे शक था कि उसका छह साल का बच्चा अपनी मां के साथ मिल कर उसके खिलाफ साजिश रच रहा है इसलिए उसने बच्चे से तब तक कसरत कराई जब तक उसकी मौत नहीं हो गई।
इसके बाद उसने चार अन्य बच्चों की गला घोट कर हत्या कर दी और मासूम बच्चों के शवों को अल्बामा में पहाड़ी के निकट फेंकने से पहले नौ दिन तक कार में लिए घूमता रहा। जोन्स की कार से क्षत-विक्षत शवों की दुर्गंध आने से उसे एक यातायात चौकी पर गिरफ्तार किया गया था।

 

13-06-2019
पत्नी को पता चला सौतन के बारे में तो जमकर मचा बवाल, पति ने गुस्से में उठाई बंदूक और... 

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली के पास नोएडा में ऐसा हादसा हुआ जिसने हर किसी को हैरान कर दिया। नोएडा में सौतन का विरोध करने पर फौजी ने पत्नी को गोली मार दी। गंभीर हालत में उसको अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस उपाधीक्षक (ग्रेटर नोएडा) अमित किशोर श्रीवास्तव ने बताया कि थाना दनकौर क्षेत्र के गांव देवटा के रहने वाले शिव कुमार भारतीय सेना में तैनात हैं। उनकी तैनाती फिलहाल असम में है। छुट्टियों में शिव कुमार घर आया हुआ है। मंगलवार रात को उसकी पत्नी रिंकी से उसका विवाद हो गया। रिंकी का आरोप है कि उसके पति ने पायल नाम की एक महिला को दूसरी पत्नी के रूप में रखा है।

विवाद इतना बढ़ा की फौजी ने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल से पत्नी पर गोली चला दी। गोली उसके पैर में लगी है। सीओ ने बताया कि इस मामले में शिव कुमार व उसकी प्रेमिका पायल के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा थाना दनकौर में दर्ज हुआ है। घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

10-06-2019
कठुआ रेपकांड : तीन दरिंदों को उम्रकैद, तीन पुलिसकर्मियों को 5-5 साल की कैद 

 

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के कठुआ में खानाबदोश समुदाय की आठ साल की बच्ची से रेप और उसकी हत्या के मामले में पठानकोट की विशेष अदालत ने सोमवार को 6 आरोपियों को दोषी करार दिया और सजा सुनाई। पठानकोट की विशेष अदालत ने तीन दोषियों सांझी राम, परवेश दोशी और दीपक खजुरिया को उम्रकैद की सजा सुनाई। वहीं हेड कांस्टेबल तिलकराज, असिस्टेंट सब इन्सपेक्टर आनंद दत्ता और स्पेशल पुलिस ऑफिसर सुरेंद्र वर्मा को 5-5 साल की कैद और 50-50 हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई है। कोर्ट ने मुख्य आरोपी सांझी राम के बेटे (7वें आरोपी) विशाल को बरी कर दिया। मामले में बंद कमरे में हुई सुनवाई 3 जून को पूरी हुई थी। इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। पंद्रह पृष्ठों के आरोपपत्र के अनुसार पिछले साल 10 जनवरी 2018 को अगवा की गई आठ साल की बच्ची को कठुआ जिले में एक गांव के मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया और उससे दुष्कर्म किया गया। उसे जान से मारने से पहले चार दिन तक बेहोश कर रखा गया।  जम्मू से करीब 100 किलोमीटर और कठुआ से 30 किलोमीटर दूर पड़ोसी राज्य पंजाब के पठानकोट में जिला एवं सत्र अदालत ने पिछले साल जून के पहले सप्ताह में इस मामले की रोजाना सुनवाई शुरू की थी। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले की सुनवाई जम्मू कश्मीर से बाहर किए जाने का आदेश दिया था।   जिन लोगों को दोषी ठहराया गया है, उनमें गांव का सरपंच सांजीराम, उसका नाबालिग भतीजा आनंद दत्ता और दो विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया तथा सुरेंदर वर्मा शामिल हैं।  हेड कांस्टेबल तिलकराज और सब इंस्पेक्टर आनंद दत्ता को भी दोषी ठहराया गया है जिन्होंने सांजीराम से चार लाख रुपये लिए और अहम सबूत नष्ट कर दिए। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804