GLIBS
24-05-2019
गेस्ट हाउस और भोजनालय में पुलिस का छापा, संदिग्ध अवस्था में मिले कई जोड़े

 

नवापारा-राजिम। रायपुर पुलिस ने शुक्रवार दोपहर उच्चाधिकारियों के निर्देश के बाद नगर के लक्ष्मी नारायण भोजनालय और आनंद गेस्ट हाउस में  दबिश दी । दोनों ही रेस्ट हाउस में 7 जोड़े महिला-पुरुष और 1 युवती बंद कमरे में संदिग्ध तरीके से मिले। पुलिस सभी जोड़ों और दोनों ही रेस्ट हाउस संचालकों को लेकर थाने आई। थाने में लगभग 3 घंटे की गहन पूछताछ और साक्ष्य देखने के बाद 2 जोड़े पति-पत्नी निकले, जबकि एक युवती का अपने निजी कार्य से रुकना प्रमाणित होने पर दोनों जोड़ों और युवती को बिना कार्यवाही के जाने दिया गया। शेष 4 जोड़े महिला-पुरुष और युवक-युवती प्रेमी निकले। इन जोड़ों के परिजनों को फोन कर थाने बुलाया गया और वस्तुस्थिति से अवगत कराते हुए पूरी तरह परिजन होने की पुष्टि होने के बाद उन्हें जाने दिया जबकि चारों पुरुषों और दोनों लाज संचालकों के विरुद्ध प्रतिबंधात्मक कार्यवाही करते हुए एसडीएम अभनपुर के न्यायालय में पेश किया गया । एसडीएम के अभनपुर में मौजूद नहीं रहने के कारण आरोपियों को रायपुर ले जाया गया। बता दें कि 
रायपुर पुलिस की स्पेशल टीम के एएसआई राजेंद्र पाण्डेय अपने 7 मातहतों संचित शर्मा, रोहित कुमार, शुभम यादव आदि के साथ दोपहर 1 बजे अलग-अलग भागों में बंटकर एक ही समय स्टेट बैंक के सामने स्थित लक्ष्मीनारायण लाज और पोस्ट ऑफिस के बाजू स्थित आनंद गेस्ट हाउस में घुसे। लक्ष्मीनारायण लाज से 3 जोड़े और 1 सिंगल युवती जबकि आनंद गेस्ट हाउस से 4 जोड़े महिला-पुरुष बंद कमरों के पीछे मिले। पकड़े गए लोगों में रायपुर, धमतरी सहित गरियाबंद जिले के तरीघाट, कुंडेल गांव के लोग शामिल हैं। थाना प्रभारी अमित तिवारी ने इस कार्यवाही की पुष्टि करते हुए बताया कि बलिराम पिता पुनाराम सोनकर (36) आमापारा राजिम, उमेश्वर पिता भागीरथी साहू (38) मुजगहन थाना कुरूद धमतरी, योगेश पिता रामा साय (24) मैनेजर आनन्द गेस्ट हाउस, मनीष उर्फ बबलू पिता गोपाल वैष्णव (31) खम्हारडीह पंडरी रायपुर, दुबेलाल पिता धनसिंह साहू (25) कौन्दकेरा राजिम, हरिशंकर पिता स्व- प्रभुलाल देवांगन (31) संचालक लक्ष्मीनारायण लाज के विरुद्ध धारा 151 के तहत कार्यवाही की गई है ।   

22-04-2019
साध्वी प्रज्ञा के मामले में आयोग की कार्यप्रणाली संदिग्ध : मायावती

लखनऊ। भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा के मामले में चुनाव आयोग के रूख पर संदेह जताते हुये बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने कहा कि संवैधानिक संस्था की कार्यप्रणाली लोकतंत्र के लिये चिंता का विषय है। सुश्री मायावती ने ट्वीट किया भोपाल से बीजेपी प्रत्याशी और मालेगांव ब्लास्ट आरोपी साध्वी प्रज्ञा का दावा है कि वे ‘धर्मयुद्ध’ लड़ रही हैं। यही है बीजेपी/आरएसएस का असली चेहरा जो लगातार बेनकाब हो रहा है। लेकिन आयोग केवल नोटिसें ही क्यों जारी कर रहा है तथा बीजेपी रत्न प्रज्ञा का नामांकन क्यों नहीं रद्द कर रहा है। उन्होने फिर लिखा मीडिया की जबर्दस्त आलोचनाओं के बावजूद चुनाव आयोग अगर जनसंतोष के मुताबिक निष्पक्षता से काम नहीं कर रहा है तो यह देश के लोकतंत्र के लिए बड़ी चिन्ता की बात है। इस गिरावट के लिए असली जिम्मेदार कोई और नहीं बल्कि बीजेपी व पीएम मोदी हैं जो गंभीर चुनावी आरोपों से घिरे हैं। गौरतलब है कि कांग्रेस ने अपने दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह को भोपाल लोकसभा से टिकट दिया है जहां उनका मुकाबला भाजपा की साध्वी प्रज्ञा ठाकुर से है। हाल ही में प्रज्ञा ने दिग्विजय सिंह से अपनी चुनावी लड़ाई को धर्मयुद्ध करार दिया था।

 

15-04-2019
एक लाख से अधिक संदिग्ध लेन-देन पर चुनाव आयोग की नजर

रायपुर। लोकसभा चुनाव में मतदाताओं को धनबल से रिझाने को लेकर चुनाव आयोग निगरानी रख रहा है। इसके लिए एक लाख रुपए से अधिक हर संदिग्ध लेन-देन की जानकारी आयोग ने सभी बैंकों से मांगी है। भारत निर्वाचन आयोग के व्यय प्रेक्षकों ने इस संबंध में सोमवार को जिला कलेक्टोरेट स्थित रेडक्रास भवन में जिले के 66 बैंकों के अधिकारियों की बैठक ली।

    व्यय प्रेक्षकद्वय कुमार अजीत और जाधवर विवेकानंद राजेंद्र ने बैंक अधिकारियों से कहा कि वे दो तरह से मानीटरिंग करें। पहला एक लाख से 10 लाख रुपए और दूसरा 10 लाख रुपए से अधिक रकम के लेन-देन का रिकार्ड चेक करें, यदि इन दोनों तरह के लेन-देन में किसी तरह का संदेह होता है तो तत्काल जिला स्तरीय नियंत्रण कक्ष के दूरभाष क्रमांक 0771-2435444 पर सूचित करें। इसमें नगद लेन-देन के साथ मनी ट्रांसफर, आरटीजीएस, अकाउंट ट्रांसफर सहित सभी तरह के रिकार्ड की निगरानी की जानी है। व्यय प्रेक्षक कुमार अजीत ने बैंक अधिकारियों से कहा कि चुनाव आचार संहिता लगने के बाद से किसी बैंक ने एक भी संदिग्ध लेन-देन की जानकारी नहीं पकड़ी है, सभी अपनी रिपोर्ट निरंक भेज रहे हैं। ऐसा संभव नहीं है कि एक लाख से अधिक लेन-देन नहीं हो रहे हों। इसकी जानकारी प्रतिदिन सुबह भेजी जानी है। यदि बैंक को इसमें कुछ संदिग्ध लगता है तो उसकी तत्काल सूचना देनी है। उन्होंने कहा कि 14 मार्च से आज तक हुए लेन देन की जानकारी शाम तक उपलब्ध कराई जाए तथा मंगलवार सुबह से 24 अप्रैल में तक रिपोर्ट रोजाना सुबह आयोग को भेजा जाना सुनिश्चित करें। बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी राजीव पाण्डेय, एलबीएम प्रवेश चौहान सहित 66 बैंकों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

10-12-2018
जशपुर स्ट्रांग रूम के पास आज दो संदिग्धों को फिर पकड़ा कांग्रेसियों ने

जशपुर। मतगणना से ठीक 12 घंटे पहले एक बार फिर जशपुर स्ट्रांग रुम में संदिग्धों की चहलकदमी को लेकर कांग्रेसियों ने हल्ला मचाना शुरू कर दिया है। इस बार कांग्रेसियों ने रायपुर से आए दो युवकों को लेकर सवाल उठाया है। दोनों युवक अपने को टेंट वर्कर बताकर स्ट्रांग रूम के अंदर व आसपास घूम रहे थे। इनपर कांग्रेसियों की नजर पड़ी और उन्होंने दोनों युवकों पर ईवीएम से छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए संदेह व्यक्त किया है। बता दें कि  जशपुर स्ट्रांग रूम में मतगणना की तैयारी की जा रही है।

कांग्रेसी स्ट्रांग रूम के बाहर पहरेदारी में लगे हुए हैं। पिछले दो दिनों से स्ट्रांग रूम के आसपास दो युवक घूम रहे हैं जिनके पास महंगे मोबाइल हैं। इसके अलावा मोबाइल, लैपटॉप, साउंड सिस्टम व अन्य बनावटी बातें कर रहे हैं जिसके कारण कांग्रेसियों का संदेह और भी बढ़ गया है। युवक अपना नाम आशु साहू व हार्दिक राठौर बता रहे हैं जो ईवीएम व टेंट के काम से रायपुर से आए हैं और जिला निर्वाचन शाखा द्वारा उन्हें आई कार्ड भी जारी किया गया है।  कांग्रेसियों ने दोनों को जशपुर से बाहर भेजने की मांग की है।

जिला निर्वाचन शाखा में मामले की शिकायत की गई है। फिलहाल कांग्रेसी स्ट्रांग रूम के बाहर डटे हुए हैं। इस पूरे मामले में कार्रवाई को लेकर जिला प्रशासनन का पक्ष जानने की कोशिश की गई लेकिन किसी अधिकारी ने इसका जवाब नहीं दिया।   

14-09-2018
found dead body : बंदी गृह में युवक की फांसी के फंदे पर लटकी मिली लाश

गरियांबद। जिले के छुरा थाना के अंदर बंदी गृह में पुलिस कस्टडी में रहे एक युवक की लाश संदिग्ध अवस्था मे फांसी के फंदे पर लटकी मिली है, इस खबर से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है। इस घटना की जांच न्यायिक मजिस्ट्रेट व फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम कर रही है।

कब और कैसे हुई घटना, कौन है युवक।

जानकारी के अनुसार घटना तड़के सुबह का बताया जा  रहा है जिस युवक की लाश बंदी गृह में फांसी के फंदे पर लटकी मिली है उस युवक का नाम संतोष देवार फिंगेश्वर निवासी बताया जा रहा पुलिस कस्टडी में  संतोष देवार ने फांसी लगाकर किया खुदकुशी की है बताया जा रहा है कि किसी मामले को लेकर पूछताछ के लिए युवक को फिंगेश्वर से छुरा थाना लाया गया था तभी युवक ने रात में कम्बल फाड़कर फांसी के फंदे पर लटक गया। युवक फिंगेश्वर थाना क्षेत्र का निवासी हैl

न्यायिक मजिस्ट्रेड कर रहे मामले की जांच। मामले को लेकर जिले को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नेहा पांडेय में बताया कि घटना के बाद जांच के लिए न्यायिक मजिस्ट्रेट व फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम पहुंच चुकी है और मामले की जांच गंभीरता से किया जा रहा है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804