GLIBS
22-06-2019
विकास के लिए कार्य योजना बनाकर टीम भावना से काम करने की जरूरत: केंद्रीय राज्यमंत्री रेणुका सिंह 

सूरजपुर। केंद्रीय राज्यमंत्री रेणुका सिंह के प्रथम सूरजपुर आगमन शनिवार को हुआ। जिले भर में जगह-जगह उनका अतिशि स्वागत किया गया। कार्यकर्ताओं और समर्थकों के स्वागत से अभिभूत रेणुका सिंह ने कहा धन्यवाद सूरजपुर, धन्यवाद सरगुजा। स्वागत के दौरान जिला मुख्यालय सूरजपुर में कार्यकर्ताओं ने उन्हें लड्डुओं से तौल कर सम्मानित किया।
गौरतलब है कि सरगुजा संसदीय क्षेत्र से सांसद निर्वाचित होने के बाद रेणुका सिंह पार्टी पदाधिकारियों के बुलावे पर दिल्ली रवाना हो गई थी और इसी बीच उन्हें जनजातीय कार्य मंत्रालय में केंद्रीय राज्य मंत्री का दायित्व भी केंद्र सरकार में मिला। नए दायित्व से बढ़ी व्यस्तता के कारण वे अपने निर्वाचन क्षेत्र में जनता और समर्थकों का आभार प्रदर्शन करने नहीं आ पाई थी। सूरजपुर जिले में पहुंची केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह का सरगुजा की सरहद पर ताराग्राम में समर्थकों-कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने उनका ढोल, नगाड़े, फटाके और फूल-मालाओं से जोरदार स्वागत किया।
ग्राम तारा से रघुनाथपुर, प्रेमनगर, ब्रह्मपुर, रामानुजनगर, नारायणपुर, देवनगर व कृष्णपुर में स्वागत के बाद सूरजपुर पहुंची केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह को स्थानीय विश्राम गृह में जिले के कलेक्टर दीपक सोनी व पुलिस अधीक्षक गिरजा शंकर जायसवाल समेत अन्य अधिकारियों की उपस्थिति में उन्हें गार्ड आफ ऑनर प्रदान किया गया। जिला भाजपा इकाई के द्वारा स्थानीय अग्रसेन चौक में आयोजित स्वागत समारोह में पूर्व गृह मंत्री रामसेवक पैकरा, पूर्व श्रम मंत्री भैया लाल राजवाड़े, भाजपा जिलाध्यक्ष रामकृपाल साहू, वरिष्ठ भाजपा नेता आरके शुक्ला, पूर्व पापुनी अध्यक्ष भीमसेन अग्रवाल, भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक बाबूलाल अग्रवाल, बनारसी जयसवाल, राजेश अग्रवाल, नगर पालिका के अध्यक्ष थलेश्वर साहू, उपाध्यक्ष अजय अग्रवाल, पूर्व विधायक रजनी रविशंकर त्रिपाठी, श्याम बिहारी जयसवाल, मुरली मनोहर सोनी, शशीकांत गर्ग, विजय राजवाड़े, गिरीश गुप्ता, भुलन सिंह, मोहन सिंह, विजयराज अग्रवाल, किरण खेस, विमला भगत,  संदीप अग्रवाल, शंकर जिंदिया, श्रवण गोयल, कृष्ण मंगल, विकास अग्रवाल, प्रसून गोयल, मुकेश साहू, विजय तिवारी, बलराम सोनी, मुकेश गर्ग, संत सिंह, रणवीर सिंह, अनूप सिन्हा, राजेश तिवारी, जियाजुल हक, यशवंत सिंह, छोटू साहू समेत सभी मंडलों से पहुंचे भाजपा, भाजयुमो, महिला मोर्चा समेत अन्य संगठनों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने रेणुका सिंह का फूल माला से अतिशी स्वागत किया।
स्वागत से अभिभूत केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह ने समस्त मतदाताओं और कार्यकर्ताओं का हृदय से आभार व्यक्त किया और कहा कि मैं अकेले क्षेत्र और प्रदेश का विकास नहीं कर सकती इसके लिए मुझे सभी का सहयोग चाहिए। संसदीय क्षेत्र के चहुमुखी विकास और जरूरतों को पूरा करने के लिए कार्य बनाकर टीम भावना के साथ काम करने की प्रतिबद्धता उन्होंने दोहराई और कहा कि संसदीय क्षेत्र के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोडूंगीं।

17-06-2019
प्रदेश को विकास की राह में ले जा रही राज्य सरकार : राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल

 

कोरबा। छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, पंजीयन व पुनर्वास मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने सोमवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों को संबोधित करते हुए बताया कि विगत 6 माह के भीतर राज्य शासन द्वारा अनेक जनकल्याणकारी फैसले लिए गए हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ को विकास की राह में आगे बढ़ाने  कार्य किया जा रहा है। उन्होंने नरवा, गरवा, घुरुवा एवं बाड़ी  विकास योजना के माध्यम से ग्रामीणों के जीवन स्तर में आर्थिक बदलाव आने तथा आत्मनिर्भर बनने की बात कही।
राज्य शासन के 6 माह पूर्ण होने पर आयोजित पत्रकार वार्ता में मंत्री अग्रवाल ने कोरबा जिले में विकास को लेकर बनाई गई कार्ययोजना के संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कोरबा जिले में शीघ्र ही लोगों को बिजली जैसी समस्या से पूरी तरह मुक्ति मिलेगी। सभी सड़कों को बेहतर बनाने के दिशा में कार्य किया जा रहा है।  मंत्री अग्रवाल ने बताया कि राज्य शासन द्वारा  जनता को राहत देने  400 यूनिट तक बिजली बिल हाफ करने, गरीब परिवारों के 1 व्यक्ति को 10 किलो के हिसाब से चावल, पांच व्यक्ति से अधिक होने पर प्रति व्यक्ति के हिसाब से 7 किलो चावल दिया जाएगा । इसी तरह एपीएल सहित अन्य परिवार को 10 रुपए किलो के हिसाब से चावल प्रदान किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरबा जिले में अब तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी की भर्ती स्थानीय स्तर पर की जाएगी। भू विस्थापितों की समस्याओं को दूर करने चौपाल लगाकर एसईसीएल प्रबंधन सहित अन्य को निर्देशित किया गया है। अग्रवाल ने बताया कि विगत कई वर्षों से राजस्व के अनेक प्रकरण लंबित है। राजस्व के लंबित प्रकरणों को निराकृत करने पहले रायपुर संभाग में बैठक लेकर निर्देशित किया गया है।  उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा किसानों का कर्ज माफ  करने के अलावा डिफाल्टर किसानों को वन टाइम सेटलमेंट के तहत कर्ज माफी का लाभ दिया जा रहा है। धान का समर्थन मूल्य 1750 रुपए से बढ़ाकर 2500 रुपए कर दिया गया। तेंदूपत्ता संग्राहकों को 4000 रुपए प्रति मानक बोरा पारिश्रमिक दिया जा रहा है। इसी तरह कक्षा 12 वी तक नि:शुल्क पाठ्यपुस्तक विद्यार्थियों को देने का निर्णय भी लिया गया है। उन्होंने बताया कि नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी विकास योजना अंतर्गत कोरबा जिले में 4976 नरवा का सर्वे कराकर 140 नरवा का चयन सिंचाई कार्य हेतु स्वीकृत किया गया है। इस कार्य के पूर्ण होने पर 108 हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। नरवा अंतर्गत 102 नरवा में काम प्रारंभ है एवं 10 कार्य पूर्ण हो गया है। अग्रवाल ने कहा कि जिले में प्रथम चरण में गौठान निर्माण हेतु 88 कार्य स्वीकृत किए गए हैं। जिसमें से 30 स्थानों पर गौठान का काम पूर्ण हो चुका है। 58 स्थानों पर गौठान निर्माण का कार्य प्रगति पर है। गौठान निर्माण से चयनित ग्राम के 26 हजार 602 पशुओं को लाभ मिलेगा। कुल 259.55 एकड़ में गौठान का निर्माण किया जा रहा है। 

12-06-2019
शासकीय भूमि पर कब्जे का शिवसेना ने किया विरोध

जांजगीर चांपा। जिले के मालखरौदा ब्लाक अंतर्गत ग्राम पंचायत नरियरा में शासकीय जमीन पर कतिपय लोगों की ओर से कब्जा किए जाने का शिव सेना ने विरोध किया है। पार्टी ने इस संदर्भ में तहसीलदार को सूचित कर शासकीय भूमि से कब्जा मुक्त कराने और उक्त लोगों पर कार्यवाही मांग की है। शिवसैनिकों का कहना है कि नरियरा में आए दिन लोगों द्वारा शासकीय जमीन पर कब्जा किया जा रहा है। इससे भविष्य में शासकीय योजनाओं के लिए जमीन मिलना लगभग असंभव हो जाएगा एवं गांव का विकास कार्य रुक जाएगा। इस विषय में जल्द कार्यवाही नहीं किए जाने पर शिवसैनिकों ने आंदोलन की चेतावनी भी दी है।
 

08-06-2019
विकास के मायने शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार : सीएम भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि विकास के मायने केवल सड़क, बिल्डिंग और निर्माण कार्य नहीं है, बल्कि इसके असली मायने नागरिकों को शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार जैसी आवश्यक सुविधाएं देना है। उन्होंने नक्सल उन्मूलन के संदर्भ में कहा कि हमें सबसे पहले उस क्षेत्र के नागरिकों का विश्वास जीतना होगा। उन्हें लगना चाहिए कि वे सुरक्षा व्यवस्था के साये में महफूज एवं सुरक्षित हैं। सीएम बघेल ने अपने ये उद्गार शनिवार को ‘इंटेलेक्चुअल मीट आॅन चेंजिंग छत्तीसगढ़-न्यू लीडरशिप, न्यू विजन’ विषय पर आयोजित सम्मेलन में व्यक्त किए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही में मैंने बस्तर संभाग के विभिन्न जिलों के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर वहां के नागरिकों, ग्रामीणों, वनांचल के रहवासियों, नक्सलवाद से प्रभावित एवं पीड़ित लोगों, पत्रकारों, व्यापारियों, राजनीतिज्ञों और समाज के विभिन्न वर्ग के लोगों से रुबरु होकर बातचीत की है। वनांचल का आदिवासी प्रकृति के स्वतंत्र वातावरण में स्वच्छंद रूप से अपनी सीमित आवश्यकता के साथ तथा अपने गीत, संगीत और नृत्य के साथ अपना सरल जीवन जीता है, लेकिन वह भी आज देश और दुनिया के साथ गति मिलाते हुए आगे बढ़ना चाह रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वनवासियों ने जंगल बचाया है। जंगलों में तीन पीढ़ियों से परम्परागत रूप से रहने वाले कब्जाधारियों को वन अधिकार पट्टा देने के लिए वर्ष 2006 में देश में अधिनियम बनाया गया, लेकिन अभी भी हम उन्हें सही तरह से पट्टा नहीं दे पाये हैं। इसके लिए ग्राम वन समितियां ही नहीं बनी। यह जरूरी है कि व्यक्तिगत पट्टों के अलावा वहां के समुदाय को सामाजिक वन अधिकार पट्टा प्रदाय किया जाए। इससे जहां एक ओर जंगल बचेगा और वहां के नागरिकों के जीवन यापन को बल मिलेगा, उनका उन्नयन होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा बस्तर के नागरिकों का विश्वास जीतने के लिए उनकी सरकार ने सबसे पहले टाटा के प्रस्तावित संयंत्र के लिए लगभग एक दशक पूर्व किसानों से ली गयी जमीन उन्हें वापस की। संयंत्र नहीं बनने पर नियमानुसार उन्हें जमीन वापस की जानी थी। लौहंडीगुड़ा क्षेत्र में 1700 किसानों और ग्रामीणों को 4200 एकड़ जमीन वापस दिलाई गई है, जिससे उनमें विश्वास पैदा हो । मुख्यमंत्री ने कहा देश में तेंदूपत्ता संग्रहण की सर्वाधिक दर छत्तीसगढ़ में उपलब्ध कराई जा रही है। राज्य में तेंदूपत्ता संग्रहण दर 2500 प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 4000 रुपए की गई है। अनुसूचित जाति, जनजाति के नागरिकों के जाति प्रमाण पत्र तत्काल बनंे इसके लिए पिता के जाति एवं उनके बने प्रमाण पत्र के आधार पर उनके बच्चों के लिए तुरंत जाति प्रमाण पत्र बनाने के निर्देश दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में खनिज आधारित उद्योगों के स्थान पर कृषि, उद्यानिकी और वनोपज पर आधारित उद्योगों के विकास पर जोर दिया जा रहा है। छत्तीसगढ़ में धान आधिक्य मात्रा में उत्पादित हो रहा है । उसका उपयोग बायोफ्यूल के रूप में करने का प्रयास है । अगर छत्तीसगढ़ का किसान एवं मजदूर सुखी रहेगा, तो बाजार भी चलेगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में पावर का आधिक्य है तो यहां पावर पर आधारित संयंत्र लगे, खनिज है तो उस पर आधारित इंटीग्रेटेड प्लांट लगे, बॉक्साइट है, तो एल्युमीनियम आधारित उत्पाद बने। अगर स्टील है तो साइकल, मोटर साइकिल निर्माण जैसे उद्योग लगे। यहां के संसाधन एवं उद्योग के बीच संतुलन बने। खाद्य प्रसंस्करण के माध्यम से उत्पादों का मूल्य संवर्धन हो, इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। छत्तीसगढ़ को सिर्फ खदान, धुंआ और प्रदूषण नहीं चाहिए। हमे खदान पर आधारित उद्योग भी चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में करीब 4000 करोड़ रुपए की जिला खनिज न्यास राशि कांक्रीट और निर्माण कार्यों में लगा दी गईं। इस राशि का उपयोग खनिज प्रभावित क्षेत्रों के निवासियों के जीवन स्तर में सुधार करने, कुपोषण कम करने, स्वास्थ्य, डाॅक्टरों की व्यवस्था आदि की व्यवस्था में होना चाहिए था। 
सम्मेलन में रक्षा विशेषज्ञ उदय भास्कर, वरिष्ठ पत्रकार चंदन मित्रा, तरुण बसु वक्ता के रुप में उपस्थित थे।
कार्यक्रम में पूर्व केन्द्रीय मंत्री रेणुका चौधरी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ यहां के जल संसाधन, पशु संसाधन और रोजगार को बढ़ाने की तारीफ की और कहा कि श्री बघेल के नेतृ्त्व में राज्य का सही दिशा में विकास होगा ।
रक्षा विशेषज्ञ उदय भास्कर ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार नक्सलवाद की चुनौती का सामना सुरक्षा के साथ विकास की रणनीति के साथ कर रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की प्रशंसा करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने इस समस्या के समाधान की एक नयी दिशा दिखाई है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय राजनीति से ऊपर है, जिसे संपूर्णता में देखा जाना चाहिए। देश की आंतरिक सुरक्षा और बाहरी सुरक्षा आपस में जुड़ा एक संवेदनशील विषय है।
इस अवसर पर नगरीय विकास मंत्री डाॅ. शिव डहरिया, वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर, सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी डाॅ. सुशील त्रिवेदी सहित अनेक प्रबुद्धजन उपस्थित थे। 

04-06-2019
मुख्यमंत्री ने लगाई चौपाल, ग्रामीणों को समझाया नरवा, गरुवा, घुरवा और बाड़ी योजना का महत्व

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को सरगुजा संभाग के सुदूरवर्ती सूरजपुर जिले के ग्राम पंचायत केशवनगर पहुंचकर यहां बनाये गए ‘हमर गांव-हमर गौठान‘ का अवलोकन किया। उन्होंने गौठान में बनाये गए पैरा कट्टी शेड, वेटनरी हेल्प डेस्क, चारागाह, बाड़ी सहित विभिन्न घटकों का अवलोकन किया। इसी तरह स्व-सहायता समूहों के द्वारा तैयार किए गए उत्पादों का भी अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने यहां पशुओं को पहचान पट्टा पहनाया और चारा खिलाया। 
उल्लेखनीय है कि यह गौठान लगभग 8 एकड़ क्षेत्र में बनाया गया है। यहां पर 640 पशु रखे गए है। गौठान के बगल से बहने वाली रेण नदी में उपलब्ध पानी से यहां सौर सामुदायिक सिंचाई परियोजना संचालित है। 73 एकड़ में यहां 5 एचपी क्षमता वाले कुल 60 पम्प लगाये गये है। इससे लगभग 144 किसान लाभान्वित होंगे।
मुख्यमंत्री ने यहां चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याओं से रूबरू हुए। मुख्यमंत्री ने नरवा, गरुवा, घुरवा और बाड़ी योजना के संबंध में गांव वालो से उनका सुझाव लेते हुए इसके महत्व और उद्ेश्य से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि यह योजना ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए मील का पत्थर साबित होगी। गौठान से पशुओं को एक स्थान पर रखा जा सकेगा। एक से अधिक फसल लेने में सुविधा होगी। कृषि लागत में कमी आयेगी एक ओर जहॉ पशुओं के देखरेख एवं खानपान का उचित अवसर मिलेगा, वहीं गायों के गोबर से कम्पोस्ट खाद एवं गोबर का उत्पादन होगा। केशवनगर गौठान को विकसित करने के लिये 20 लाख रुपए की स्वीकृत की गई है। कम्पोस्ट खाद बनाने में रोजगार के अवसर पैदा होगें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गौठान सरकार नहीं चलाएगी बल्कि उसे किसानों की समिति चलाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा विभिन्न तरीकों जैसे ऋण माफी, 2500 हजार रुपये प्रति क्विटंल में धान खरीदी आदि के द्वारा मदद की जा रही है। मुख्यमंत्री ने यहां वन अधिकार मान्यता पत्र के तहत् प्रतीकात्मक स्वरुप वनवासियों को वन अधिकार पत्र प्रदान किया। यहां पर कुल 1057 हितग्राहियों को वनाधिकार पट्टे का वितरण किया गया। 
स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि नरवा, गरुवा, घुरुवा और बाड़ी योजना के तहत गांव-गांव में गौठान का निर्माण किया जा रहा है। गौठान से पशु संवर्धन और सुरक्षा का कार्य होगा, खेती-किसानी को बढ़ावा मिलेगा, स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा और उनकी आय में वृद्धि होगीं। 
इस अवसर पर स्कूल शिक्षामंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, सरगुजा विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष खेलसाय सिंह, विधायक गुलाब कमरो, मुख्य सचिव सुनील कुजूर और पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव आरपी मण्डल, आईजी सरगुजा केसी अग्रवाल, कलेक्टर दीपक सोनी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी अश्वनी देवांगन सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

03-06-2019
एकीकृत आदिवासी विकास परियोजनाओं के सलाहकार मंडल के अध्यक्ष मनोनीत

 

रायपुर। राज्य शासन द्वारा प्रदेश की विभिन्न एकीकृत आदिवासी विकास परियोजनाओं के सलाहकार मंडल के अध्यक्षों का मनोनयन किया गया है। मंत्रालय (महानदी भवन) अटल नगर रायपुर स्थित आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास विभाग द्वारा इस संबंध में आदेश जारी कर दिया गया है। प्रदेश की 19 एकीकृत आदिवासी विकास परियोजनाओं के सलाहकार मंडल के अध्यक्षों का मनोनयन किया गया है। आदिवासी विकास विभाग द्वारा जारी आदेशानुसार एकीकृत आदिवासी विकास परियोजना जगदलपुर जिला बस्तर एवं दंतेवाड़ा के अध्यक्ष पद पर लोकसभा सांसद बस्तर दीपक बैज का मनोनयन किया गया है। इसी प्रकार कोण्डागांव परियोजना के लिए विधायक मोहन मरकाम, नारायणपुर परियोजना के लिए विधायक चंदन कश्यप, कांकेर जिले की भानुप्रतापुर परियोजना के लिए विधायक मनोज मंडावी, सुकमा जिले की कोन्टा आदिवासी परियोजना के लिए वाणिज्यिक कर (आबकारी), वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा, बीजापुर परियोजना के लिए विधायक विक्रम मंडावी, गरियाबंद परियोजना के लिए जनपद पंचायत छुरा की अध्यक्ष धनेश्वरी मरकाम, धमतरी जिले की नगरी परियोजना के लिए विधायक लक्ष्मी धु्रव को अध्यक्ष मनोनी त किया गया है। इसी प्रकार बालोद जिले की डौंण्डीलोहारा परियोजना के लिए महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडिय़ा, राजनांदगांव जिले की परियोजना के लिए विधायक डॉ. प्रीतमराम, सूरजपुर परियोजना के लिए स्कूल शिक्षा, आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक विभाग मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले की पाल परियोजना के लिए विधायक बृहस्पत सिंह, जिला कोरिया की बैकुंठपुर परियोजना के लिए विधायक गुलाब कमरो, कोरबा परियोजना के लिए विधायक पुरषोत्तम कंवर, बिलासपुर जिले की गौरेला परियोजना के लिए विधायक मोहित केरकेट्टा, रायगढ़ जिले की धरमजयगढ़ परियोजना के लिए विधायक लालजीत सिंह राठिया, जशपुर जिले की जशपुर नगर परियोजना के लिए विधायक यू.डी.मिंज को एकीकृत आदिवासी विकास परियोजना मंडल के अध्यक्ष पद पर मनोनीत किया गया है। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होगा। 

03-06-2019
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव का दौरा 4 जून से

रायपुर। छत्तीसगढ़ के पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा स्वास्थ्य मंत्री टीॉएस सिंहदेव 4 जून को बलरामपुर-रामानुजगंज, सूरजपुर, मुंगेली एवं बिलासपुर जिले के प्रवास पर रहेंगे। वे 4 जून को सवेरे साढ़े 10 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा अंबिकापुर से बलरामपुर जिले के ग्राम बेलसर के लिए रवाना होंगे। वे सवेरे 11 बजे बेलसर में चौपाल कार्यक्रम में शामिल होंगे। सिंहदेव दोपहर 12 बजे वहां से हेलीकॉप्टर द्वारा सूरजपुर जिले के केशव नगर के लिए प्रस्थान करेंगे। वे केशव नगर में दोपहर 12:40 बजे चौपाल कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। वे वहां से दोपहर दो बजे हेलीकॉप्टर द्वारा कोरबा जिले के ग्राम केराझरिया के लिए रवाना होंगे। सिंहदेव दोपहर 02:50 बजे केराझरिया में चौपाल कार्यक्रम में शामिल होंगे। वे वहां से दोपहर 03:50 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा मुंगेली जिले के ग्राम लोहदा के लिए प्रस्थान करेंगे। वे शाम 04:20 बजे लोहदा में भी चौपाल कार्यक्रम में भाग लेंगे। सिंहदेव शाम साढ़े पांच बजे वहां से सड़क मार्ग द्वारा बिलासपुर के लिए रवाना होंगे। वे शाम 6 बजे बिलासपुर पहुंचेंगे और स्थानीय कार्यक्रम में शामिल होंगे। वे देर रात सवा 12 बजे बिलासपुर से दुर्ग-अंबिकापुर एक्सप्रेस द्वारा अंबिकापुर के लिए प्रस्थान करेंगे। सिंहदेव 05 जून को सवेरे 08:20 बजे वापस अंबिकापुर पहुंचेंगे।    

03-06-2019
मंत्री नहीं बनाने का कारण पूछने पर मेनका गांधी ने कहा- अच्छा तो हम चलते हैं...

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री और सुल्तानपुर से भाजपा सांसद मेनका गांधी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल के लिए गठित की गई कैबिनेट में जगह नहीं मिली है। इस बारे में सवाल पूछे जाने पर मेनका गांधी ने जवाब दिया कि इसकी वजह उनकी लोकसभा सीट के लोग बताएंगे। मेनका गांधी लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार सुल्तानपुर पहुंची थीं। उन्होंने लोगों का धन्यवाद देते हुए हर वर्ग के विकास की बात की। हालांकि पूर्व महिला एवं बाल विकास मंत्री ने तंज भरे लहजे में कहा कि बड़े अंतर से चुनाव जीतने और लंबे वक्त तक सांसद रहने वाले को प्रोटेम स्पीकर बनाया जाता है और उनमें से मैं भी एक हूं। बता दें कुछ रिपोट्र्स में कहा जा रहा है कि मेनका गांधी को प्रोटेम स्पीकर बनाया जा सकता है। इस बार पीलीभीत से सांसद चुने गए अपने बेटे वरुण गांधी को भी मोदी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किये जाने के सवाल पर मेनका ने चुप्पी साध ली। बयान देने के बजाय उन्होंने कहा कि अच्छा तो हम चलते हैं।

20-05-2019
अजा बहुल गांवों का विकास कर जोड़ा जाएगा राष्ट्र की मुख्यधारा से 

रायपुर। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना के तहत प्रदेश के अनुसूचित जाति बहुल चयनित गांवों का समुचित विकास कर राष्ट्र की मुख्यधारा से जोडऩे के लिए केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय नई दिल्ली के सहयोग से आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास विभाग द्वारा जिला स्रोत दल के सदस्यों का प्रशिक्षण सोमवार से शुरू हो गया है। निमोरा स्थित ठाकुर प्यारेलाल पंचायत एवं ग्रामीण विकास प्रशिक्षण संस्थान में जिला स्रोत दल के सदस्यों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। यह प्रशिक्षण 23 मई तक चलेगा।  प्रशिक्षण में आदिम जाति विभाग के सचिव सह-आयुक्त डीडी सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना का उद्देश्य राज्य के 50 प्रतिशत से अधिक अनुसूचित जाति की जनसंख्या वाले चयनित गांवों का एकीकृत विकास सुनिश्चित करना है। ऐसे गांवों का समुचित विकास कर राष्ट्र की मुख्यधारा से जोडऩा है। उन्होंने अधिकारियों को इसके लिए प्रशासनिक सहभागिता के साथ-साथ आम लोगों को जागरूक कर उन्हें भी इस कार्यक्रम में जोडऩे पर बल दिया।  सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के अवर सचिव दीपक कुमार ने योजना के क्रियान्वयन हेतु दिशा-निर्देशों में उल्लेखित प्रावधानों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने प्रपत्रों के प्रारूप तथा उनमें दर्ज की जाने वाली प्रविष्ठियों के बारे में भी बताया। दीपक ने योजना की उपलब्धियों की जानकारी ऑनलाइन अपलोड करने के संबंध में सॉफ्टवेयर विशेषज्ञों को भी तकनीकी जानकारी दी। प्रशिक्षण कार्यक्रम में संकाय सदस्य आनंद रघुवंशी,  प्रज्ञान सेठ और संजय गौड़ ने भी योजना के बेहतर क्रियान्वयन के संबंध में अपने विचार रखे । 

 

16-05-2019
अंत्यावसायी सहकारी वित्त व विकास निगम के तीन अधिकारी-कर्मचारी बर्खास्त

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम के संचालक अलेक्स पाल मेनन ने भ्रष्टाचार के मामले में कार्रवाई करते हुए निगम के तीन अधिकारी एवं कर्मचारियों के बर्खास्तगी के आदेश दिए हैं। इन कर्मचारियों में पीताम्बर राम यादव, प्रभारी कार्यपालन अधिकारी जिला अंत्यावसायी निगम विकास समिति जशपुर, शनिराम सुमन सहायक ग्रेड-2 जिला अंत्यावसायी निगम धमतरी एवं मानवेन्द्र चक्रवर्ती भृृत्य अंत्यावसायी व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्र दुर्ग शामिल है। इस संबध में निगम द्वारा जारी आदेश के अनुसार इन अधिकारी-कर्मचारियों को जिला सत्र न्यायालय दुर्ग ने 16 अप्रैल 2019 को वर्ष 1996 में हुए घोटाले के प्रकरण में विभिन्न धाराओं के तहत दोषी पाते हुए अर्थदड और एक वर्ष के कारावास की सजा सुनाई है। 

28-04-2019
मोदी की जाति नहीं, हम विकास की बात कर रहे : प्रियंका गांधी

बहराइच। जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आप को  अति पिछड़ा कहा है तबसे चुनावी राजनीति तेज हो गई है। मायावती और तेजस्वी यादव के बाद अब कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी पीएम मोदी पर टिप्पणी की है। प्रियंका गांधी ने कहा है कि मैं प्रधानमंत्री की जाति नहीं जानती और न ही हमने उनपर कभी व्यक्तिगत टिप्पणी की है। बहराइच में पत्रकारों से बात करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि आज भी मैं प्रधानमंत्री मोदी की जाति नहीं जानती। विपक्ष और कांग्रेस के नेता केवल विकास के मुद्दे पर बात कर रहे हैं। हमने कभी उन पर कोई व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं की। बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने कन्नौज में एक जनसभा को संबोधित करते हुए एसपी-बीएसपी पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि ये दोनों दल मेरी जाति को लेकर प्रमाण पत्र बांट रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि मैं अति पिछड़े वर्ग में पैदा हुआ और देश को अगड़ा बनाने के लिए काम कर रहा हूं। पीएम मोदी के इस बयान पर खूब राजनीति हो रही है। आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री पर हमला बोलते हुए कहा था कि पीएम मोदी नकली पिछड़े हैं। बता दें कि प्रियंका गांधी बहराइच से पहले अमेठी में थीं। यहां पर भी उन्होंने बीजेपी को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग अमेठी में जीतने के लिए वोटर्स को पैसे, साडय़िां और जूते बांट रहे हैं। यह चुनाव जीतने का बेहद गलत तरीका है। उन्होंने कहा कि जब मैं 12 साल की थी तब से यहां आ रही हूं। अमेठी व रायबरेली के लोगों में बहुत आत्मसम्मान है। यहां की जनता ने कभी किसी से भीख नहीं मांगी है। प्रियंका गांधी ने कहा कि जिस तरह से वे मीडिया के सामने पैसे, साड़ी और जूते बांटकर चुनाव लड़ते हैं, वह गलत है। अमेठी के लोगों ने कभी किसी के सामने भीख नहीं मांगी। मैं 12 साल की उम्र से यहां आ रही हूं, अमेठी और रायबरेली के लोगों में बहुत गर्व है।

 

 

15-04-2019
लोगों में डर पैदा करने निर्दोषों की हत्या करते हैं नक्सली : मनीष पारेख

रायपुर। नक्सलियों के दंडकारण्य स्पेशल जोन और दरभा डिवीजन कमेटी के सचिव साईंनाथ द्वारा पत्र जारी कर दन्तेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी को हिंदूवादी नेता बताकर उनकी हत्या करने के स्पष्टीकरण पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य और नक्सल विरोधी नेता मनीष पारेख ने कहा है कि नक्सली बहाना बना रहे हैं। दन्तेवाड़ा विधानसभा और पूरे बस्तर संभाग के अधिकांश बीजेपी और कांग्रेसी नेता धार्मिक हैं, समूचे बस्तर संभाग सहित छत्तीसगढ़ में सभी धर्मों के लोग आपसी भाईचारे से रहते हैं। ऐसे में  एक आस्थावान विधायक भीमा मंडावी की नक्सलियों ने हत्या कर दी। मनीष पारेख ने कहा कि विधायक भीमा मंडावी शिक्षा के प्रति बेहद संवेदनशील और जागरूक थे। वे विधायक के तौर पर दन्तेवाड़ा विधानसभा में शिक्षा को बढ़ावा देकर ग्रामीणों को जागरूक करने का प्रयास कर रहे थे। चूंकि लोगों की जागरुकता और विकास नक्सलियों के सबसे बड़े शत्रु हैं इसलिए वे बस्तर में शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास को बाधित करने के लिए तथा लोगों में डर पैदा करने के लिए निर्दोषों की हत्या करते हैं। मनीष पारेख ने नक्सलियों से पूछा है कि सड़क निर्माण में लगे गरीब व्यक्तियों की हत्या का क्या जवाब है नक्सलियों के पास? मुखबिरी के नाम पर निर्दोष ग्रामीणों की हत्या का क्या जवाब है? गांवों में सड़क, पानी, स्कूल, आंगनबाड़ी का विरोध क्यों करते हैं जबकि ये आवश्यकता ही नहीं अधिकार है जनता का। फागुन मेला देखने जा रहे परिवार को बम से उड़ा दिया, जिसमें दो गर्भवती महिलाओं सहित छोटी बच्ची भी थी, वे कौन से हिंदूवादी थे? मनीष पारेख ने कहा कि नक्सली बस्तर में अपना डर कायम रखने के लिए किसी की भी हत्या कर सकते हैं। नक्सली किसी विचारधारा की लड़ाई नहीं लड़ रहे हैं। मनीष पारेख का कहना है कि वे आगामी दिनों में परमार्थ संस्था के जरिए नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जनजागरण का कार्य करेंगे और नक्सलियों को बेनकाब करेंगे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804