GLIBS
16-04-2019
एसबीएसपी ने की बीजेपी से बगावत, 25 उम्मीदवारों का किया ऐलान

लखनऊ। जैसी कि उम्मीद जताई जा रही थी, उत्तरप्रदेश में योगी सरकार के मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ दिया है।  उन्होंने आज बनारस, लखनऊ और गोरखपुर सहित लोकसभा की 25 सीटों के लिए अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। बता दें कि भाजपा ने उनसे एक सीट छोडऩे का ऑफर दिया था और कहा था कि मंत्री पद छोड़ कर वे खुद चुनाव लड़ें। कहा जा रहा है कि राजभर अपने बेटे के लिए अपनी पार्टी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के सिंबल पर उम्मीदवारी चाहते थे लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। बीजेपी ने राजभर की नाराजगी दूर करने की काफी कोशिश की। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी के साथ बैठक भी हुई लेकिन नाकाम रही।  ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि उनका बार-बार अपमान हुआ और वे बीजेपी के साथ चुनाव लडऩा चाहते थे लेकिन बीजेपी ने नहीं सुनी। बीजेपी एक भी सीट देने को तैयार नहीं है। राजभर ने कहा कि बीजेपी कहती है कि विधानसभा में समझौता है, लोकसभा में नहीं। हमसे बोला गया कि एक सीट पर टिकट देंगे लेकिन बीजेपी के सिंबल पर लड़ो। ये हो सकता है क्या?   सुभासपा के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि सरकार छोडऩे का फैसला अभी नहीं किया लेकिन अगर अभी कहेंगे तो छोड़ दूंगा। अब ट्रेन स्टेशन से निकल चुकी है। कोई गुंजाइश नहीं है अब सुलह की। वो चाहते हैं कि हम इतने वर्षों का संघर्ष छोड़ दें तो ऐसा नहीं हो सकता। 23 तारीख को पता चलेगा कि रिजल्ट कैसा रहेगा। 

15-04-2019
एसबीएसपी स्वतंत्र रूप से लोकसभा की 25 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

बलिया। उत्तरप्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भाजपा से अलग होकर प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों पर चुनाव लडऩे की घोषणा कर दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निजी सचिव को अपना त्यागपत्र भी भेज दिया है। ओमप्रकाश राजभर ने सोमवार को बलिया के रसड़ा में पार्टी के नेताओं के साथ बैठक के बाद प्रेसवार्ता में कहा कि मैंने हमेशा से ही गठबंधन धर्म निभाने का प्रयास किया। सहयोगी दल होने के नाते हमने पूर्वांचल की केवल एक सीट से चुनाव लडऩे का प्रस्ताव रखा था, लेकिन हमारे प्रस्ताव को दरकिनार करते हुए भाजपा नेतृत्व ने कोई जवाब नहीं दिया।  हमारी अनेदखी की।  राजभर ने बताया कि शनिवार की रात मुख्यमंत्री ने उन्हें अपने आवास पर बुलाया था और उनसे केवल घोसी लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के चुनाव चिह्न पर चुनाव लडऩे को कहा, जिससे उन्होंने इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि हमने कह दिया है कि हम किसी भी सूरत में भाजपा के चुनाव चिह्न पर चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। एसबीएसपी अध्यक्ष ने कहा कि बार-बार मुख्यमंत्री से आग्रह करने के बाद भी मेरी भावनाओं को नहीं समझा गया, जिसके कारण बाध्य होकर उसी रात तीन बजे सुबह मुख्यमंत्री आवास जाकर मैंने उनके निजी सचिव को अपना इस्तीफा दे दिया, लेकिन निजी सचिव ने इस्तीफा लेने से इनकार कर दिया।  

Advertise, Call Now - +91 76111 07804