GLIBS
15-03-2019
डिस्ट्रिक्ट माइनिंग फंड योजना में काम करने वाले 292 संविदा कर्मचारियों की होगी सेवा समाप्त

रायपुर। डिस्ट्रिक्ट माईनिंग फंड (डीएमएफ) से कार्य करने वाले नौ डॉक्टर समेत 292 संविदा कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त होगी। दंतेवाड़ा सीएमओ ने सभी को एक महीने की नोटिस थमाकर सेवा समाप्त करने की सूचना जारी किया है। डीएमएफ  के काम में सरकार को बड़ा फजीर्वाड़ा होने की जानकारी मिल रही है। इसी के चलते इस योजना में काम करने वालों की लिस्ट जारी कर सेवा समाप्त करने का फैसला लिया गया है। 

बता दें कि दंतेवाड़ा में डीएमएफ से बड़ी संख्या में संविदा में भरती की गई है। इसमें सरकार को व्यापक फजीवार्ड़े की भी शिकायत मिली थी। कुछ ऐसे लोग भी अस्पतालों के नाम पर नियुक्त कर दिए गए, जिनकी उपास्थिति कागजों में रहती है। सोर्स-सिफारिश पर पद से अधिक अपाइंटमेंट किए गए। मसलन, दंतेवाड़ा जिला अस्पताल में नर्स की 70 स्वीकृत पद है। लेकिन, वहां डीएमएफ में 140 नर्सों की भर्ती कर ली गई। सीएमओ की नोटिस से पता चलता है कि स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर वहां किस तरह गोलमाल किया गया। छोटे सामुदायिक केंद्रों में सात-सात चौकीदारों की नियुक्ति कर ली गई। बताते हैं, इसमें कुछ रसूखदारों के रिश्तेदारों को जमकर उपकृत किया गया। यहीं नहीं, डीएमएफ के मद से डाक्टरों को इंसेटिव भी दिए जा रहे थे। जिन संविदा डाक्टरों को बाहर से ढाई लाख वेतन में पोस्टिंग किया गया था। उनकी देखा देखी सरकारी डाक्टरों ने वेतन बढ़ाने की मांग की। इस पर सबको डीएमएफ से 30 से 40 हजार रुपए महीना इंसेटिव फीक्स कर दिया गया। जबकि, सविदा के समान सुविधा की मांग सरकारी डाक्टर नहीं कर सकते। क्योंकि, वे सरकारी हैं। 292 में विशेषज्ञ डॉक्टर से लेकर सफाईकर्मी तक शामिल हैं।

 

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804