GLIBS
10-01-2019
Trade Union : ट्रेड यूनियन की हड़ताल में शामिल नहीं हुआ मजदूर संघ

रायपुर। विभिन्न ट्रेड यूनियनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का पहला दिन मिला जुला रहा। हड़ताल में बैंक, बीमा, पोस्ट ऑफिस, दूर संचार सहित कई संस्स्थान बंद रहे। लेकिन कई संगठनों की अपील के बाद भी भारतीय मजदूर संघ ने इसमें भाग नहीं लिया।

मजदूर संघ के जिला मंत्री नरोत्तम धृतलहरे ने बताया कि गैर राजनीतिक ट्रेड यूनियन की बैठक संघ के प्रदेश महामंत्री राधेश्याम जायसावाल, कार्यकारी अध्यक्ष जयनारायण श्रीवास्तव की मौजूदगी में हुई थी। इसमें मजदूर संघ के पदाधिकारियों ने हड़ताल में नहीं लेने का निर्णय किया था। श्री धृतलहरे ने बताया कि संघ ने इस हड़ताल को अाम आदमी की नहीं बल्कि राजनीति से प्रेरित माना। इससे पहले ट्रेड यूनियन ने केंद्र सरकार के सामने 12 मांगें रखी थी जिनमें से सरकार ने 7 को मंजूरी दे दी थी। वर्तमान में शेष 5 मांगों को मंजूरी मिलने की प्रक्रिया जारी है। लिहाजा मजदूर संघ इस हड़ताल में शामिल नहीं हुआ।

 

08-01-2019
Strike : सैकड़ों इन्टक कार्यकर्ता हड़ताल में हुए शामिल

भिलाई। केन्द्र सरकार की श्रम विरोधी नीतियों के खिलाफ  इन्टक सहित 10 राष्ट्रीय ट्रेड यूनियनों के 8 एवं 9 जनवरी के हड़ताल के पहले दिन मंगलवार कोव ए इंटक महासचिव के बघेल के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने बोरियागेट पर प्रदर्शन किया। इस दौरान बड़ी संख्या में बीएसपी कर्मियों का भी समर्थन मिला। इस दौरान ड्यूटी जाने वाले कर्मियों से इंटक नेताओं ने समर्थन देने की अपील की। इन्टक कार्यकर्ताओं एवं संयंत्रकर्मियों को संबोधित करते हुए इंटक महासचिव एसके बघेल ने कहा कि केंद्र सरकार के अनावश्यक  हस्तक्षेप के कारण कर्मियों का वेज रिवीजन एवं पेंशन रुका हुआ है। कर्मियों को उनके अधिकारों से वंचित किया जा रहा है। केंद्र सरकार के संरक्षण में सेल प्रबंधन हमारी सुविधाओं एवं भत्तों में कटौती कर रहा है।  इस दौरान यूनियन के उपाध्यक्ष पीजूषकर, आरसी अग्रवाल, शोभाभल्लापी, के चौधरी, संतोष किचलु, राजेंद्र पिल्ले, रमेश तिवारी, एनएस बंछोर, चंद्रशेखर, पी वी राव, संजय साहू, वंश बहादुर सिंह सहित सैकड़ों की संख्या में यूनियन व बीएसपी कर्मी उपस्थित थे।

बैंकों और बीमाकर्मियों की हड़ताल से सेवाएं  प्रभावित

ट्रेड यूनियन के आह्वान पर मंगलवार को बैंक व एलआईसी कार्यालयों में भी कामकाज ठप रहा। बैंककर्मी व बीमाकर्मियों ने अपने-अपने ब्रांच के गेट पर हड़ताल का बोर्ड लगाकर केंद्र सरकार के खिलाफ  विरोध प्रदर्शन किया। बीमा कर्मियों ने एलआईसी कार्यालय के समक्ष धरना दिया। एलआईसी के प्रमोद नायर ने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सुधार व मूल्यवृद्धि पर रोक लगाने, बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए ठोस उपाय करने, श्रम कानून को कड़ाई से लागू करने, मजदूरों को सामाजिक सुरक्षा लागू करने, न्यूनतम मजदूरी पंद्रह हजार सुनिश्चित करने, श्रमिकों को न्यूनतम पेंशन तीन हजार रुपए मासिक देने, उद्योगों का विनिवेश बंद करने, ठेकेदारी प्रथा पर रोक लगाने, ट्रेड यूनियन का निबंधन 45 दिनों में करने, श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी सुधार बंद करने तथा रेलवे बीमा व रक्षा के क्षेत्र में एफडीआई लागू नहीं करने के खिलाफ  देशव्यापी हड़ताल को भिलाई में समर्थन मिला। बीमा व बैंककर्मियों की हड़ताल से ग्राहकों को परेशानी हुई। बैंकों में निकासी व निवेश का काम नहीं हो सका।

08-01-2019
Strike : मजदूरों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल का कोरबा में रहा आंशिक असर

कोरबा। कोयला उद्योग से जुड़ी केन्द्रीय नीतियों को लेकर ट्रेड यूनियनों की ओर 8 और 9 जनवरी को देशव्यापी हड़ताल का आव्हान किया है। इसमें एसईसीएल की स्थानीय खदानें शामिल रहीं। कुछ परियोजनाओं में हड़ताल की सफलता का दावा किया गया। हड़ताल का आंशिक असर रहा, वहीं अनेक स्थानों पर हड़ताल फ्लॉप रही। बैंक और बीमा कार्यालय में कामकाज बाधित रहा।

कोरबा के बीकेकेएमएस और इंटक को छोड़ एचएमएस, सीटू, एटक, एक्टू जैसी यूनियन हड़ताल में शामिल रहे। कोरबा जिले में एसईसीएल के कोरबा, कुसमुंडा, गेवरा और दीपका विस्तार क्षेत्र की परियोजनाओं में होने वाले कोयला उत्पादन व प्रेषण को बाधित करने का प्रयास किया गया। हालांकि हर तरफ वातावरण पक्ष में नहीं रहा। इंटक नेता विकास सिंह सहित दीपेश मिश्रा, ए.विश्वास, राजू श्रीवास्तव, सुभाष सिंह, मनहरण पटेल ने प्रदर्शन के दौरान नेतृत्व किया। सिंघाली, ढेलवाडीह, बलगी, रजगामार आदि क्षेत्रों में उत्पादन के सामान्य होने की जानकारी है। कुसमुंडा में उत्पादन सामान्य रूप से जारी रहा लेकिन आउट सोर्सिंग पर किए जाने वाले ओव्हरबर्डन में गतिरोध होने की खबर है। एसईसीएल की लाभकारी परियोजना में शामिल गेवरा और दीपका विस्तार खदानों में उत्पादन पर हड़ताल का आंशिक प्रभाव की जानकारी है। एसईसीएल दीपका विस्तार क्षेत्र के मुख्य महाप्रबंधक एनके सिंह ने बताया कि हड़ताल के कारण कुछ हद तक यहां उत्पादन प्रभावित हुआ है। कोरबा में बैंक खुले जरूर लेकिन हड़ताल का हवाला देकर कर्मियों ने सामान्य कामकाज में हाथ नहीं डाला। टीपी नगर स्थित ओबीसी के अधिकारी ने बताया कि आज की हड़ताल प्रस्तावित है। वहीं एलआईसी ब्रांच 2 के सामने कर्मियों ने नारेबाजी की। राष्ट्रव्यापी हड़ताल में एसकेएमएस, एचएमएस और केएसएस शामिल है। इन तीनों संगठनों के पदाधिकारी सभी स्थानों पर हड़ताल में शामिल हो रहे हैं। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804