GLIBS
22-07-2019
हॉस्पिटल में नौकरी देने के नाम पर युवाओं से लाखों की ठगी

कोरबा। वल्र्ड वेलफेयर एंड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन द्वारा संचालित श्री हॉस्पिटल नर्सिंग होम एंड पैरामेडिकल कॉलेज उरगा में नौकरी के नाम पर ठगी का मामला सामने आया है। पीडि़तों ने बताया कि उनके साथ नौकरी के नाम पर ठगी की गई है, फर्जी नियुक्ति पत्र व नौकरी लगाने के लिए लाखों रुपए लिए गए हंै। आवेदनकर्ताओं ने कॉलेज प्रबंधन से एक माह के अंदर नौकरी देने की मांग की है। कॉलेज प्रबंधन का कहना है कि उन्होंने डीडी के द्वारा रुपए लिए हैं, जबकि आवेदनकर्ताओं का सीधा आरोप है कि प्रबंधन ने नौकरी के नाम पर, अवैध रुपए वसूल किए हैं जो जांच का विषय है। 

 

 

03-06-2019
हिदायतुल्लाह विधि विवि के 45 कर्मचारियों को ठेकेदार ने निकाला काम से, कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन 

रायपुर। नया रायपुर स्थित हिदायतुल्लाह विधि विश्वविद्यालय में काम करने वाले 45 कर्मचारियों को नए ठेकेदार ने बाहर कर दिया है। आक्रोशित कर्मचारियों ने कॉलेज के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं। नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों ने बताया कि हिदायतुल्लाह विधि विश्वविद्यालय का निर्माण वर्ष 2006 में हुआ था और तत्कालीन शिक्षा मंत्री ने कहा था कि आस-पास के गांव वालों को विश्वविद्यालय में ठेकेदार के अधीन नौकरी  पर रखा जाएगा। 2006 से लेकर 2019 तक कर्मचारियों को नौकरी में रखकर उन्हें ठेकेदार कलेक्टर दर पर वेतन दे रहा था।

विश्वविद्यालय में हर साल कर्मचारियों का ठेका बदलता है, लेकिन इन 45 कर्मचारियों को कभी नौकरी से नहीं हटाया गया। जैसे ही कांग्रेस की सरकार बनी और ठेका खत्म हुआ। इसके बाद से यहां काम करने वाले कर्मचारियों को हटाया जा रहा है। जबकि यहां काम करने वाले कर्मचारियों की किसी प्रकार से कोई शिकायत भी नहीं है। नए ठेकेदार की ओर से 45 कर्मचारियों को हटाने की बाद से कर्मचारियों में आक्रोश हैं और वे विश्वविद्यालय के बाहर नारेबाजी शुरू कर दी है। गांव वालों ने कहा कि कर्मचारियों के समर्थन में पूर्व कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहू भी आने वाले हैं। कर्मचारियों को ठेकेदार ने क्यों निकाला हैं, इसे लेकर पूर्व मंत्री विश्वविद्यालय प्रबंधन से चर्चा करेंगे।

15-05-2019
नौकरी लगाने के नाम पर ठगी करने वाले कॉलेज संचालक को पुलिस ने लिया हिरासत में

 

रायपुर। नौकरी लगाने के नाम पर छात्र-छात्राओं से रकम ऐंठने वाले सृष्टि कॉलेज आफ नर्सिंग के संचालक को मौदहापारा पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। बता दें कि आरोपी संचालक गोविंद चौहान पर छात्र-छात्राओं को आयुर्वेद अस्पताल में कंपाउंडर की नौकरी लगाने के नाम पर लाखों रुपये ठगने का आरोप है। इस शिकायत को लेकर छात्र-छात्राओं ने सोमवार को जोगी कांग्रेस के नेता के नेतृत्व में एएसपी से शिकायत की थी। जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी संचालक गोविंद चौहान को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

30-04-2019
विस्तारा ने जेट एयरवेज के 550 कर्मियों को दी नौकरी

नई दिल्ली। विस्तारा कंपनी ने जेट एयरवेज के 550 कर्मियों को नौकरी पर रखा है, इनमें से 100 पायलट हैं। वहीं जेट एयरवेज ने अपने सभी कर्मचारियों के लिए मेडिक्लेम सुविधा को बंद कर दिया है। इसके अलावा विस्तारा और एयर एशिया जल्द ही जेट एयरवेज के खड़े हो चुके विमानों को अपने बेड़े में शामिल कर लेगी। टाटा समूह के स्वामित्व वाली एयर विस्तारा ने जेट एयरवेज के 450 केबिन क्रू स्टाफ  को अपने यहां पर नौकरी दी है। फिलहाल एयर इंडिया, स्पाइसजेट और गो एयर कर्मचारियों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। एयर एशिया जेट एयरवेज के बोइंग 737 को अपने बेड़े में शामिल कर लिया है।  भारी नकदी संकट से डूबने की कगार पर पहुंची निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज अपने 20,000 से अधिक कर्मचारियों को अब मेडिक्लेम सुविधा नहीं देगी। एयरलाइन ने कर्मचारियों से कहा है कि वह समूह मेडिक्लेम पॉलिसी का प्रीमियम भरने की स्थिति में नहीं है। समूह की मेडिकल पॉलिसी मंगलवार यानी 30 अप्रैल, 2019 की मध्य रात्रि से समाप्त हो जाएगी। 25 साल पुरानी एयरलाइन कंपनी ने कर्मचारियों को सलाह दी है कि वे अपनी पसंद की मेडिकल पॉलिसी खरीद लें। कंपनी के कर्मचारियों में पायलट और इंजीनियर भी शामिल हैं। जेट एयरवेज के मुख्य लोक अधिकारी राहुल तनेजा ने कर्मचारियों से कहा कि ऋणदाताओं से किसी प्रकार के आपातकालीन फंड नहीं मिलने के कारण हम ऐसी स्थिति में पहुंच चुके हैं कि मेडिक्लेम पॉलिसी के प्रीमियम भरने में असमर्थ हैं। यह हमारे वश में नहीं है, लेकिन हमारे पास कोई और विकल्प नहीं है। उधर, जेट एयरवेज के ऋणदाताओं ने एसबीआई की अगुवाई में घरेलू बैंकों ने अपने 8,400 करोड़ रुपए कर्ज की वसूली के लिए एयरलाइन में अपनी 75 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। मई के दूसरे सप्ताह में अंतिम बोली लगाने वालों की सूची मिलने की उम्मीद है। सूत्रों के मुताबिक, एयरलाइन कंपनी को खरीदने की दौड़ में निजी इक्विटी फर्म टीपीजी कैपिटल, इंडिगो पार्टनर्स, नेशनल इंवेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रकचर फंड और एतिहाद एयरवेज शामिल हैं। जेट एयरवेज के मुख्य लोक अधिकारी राहुल तनेजा ने आशावादी दृष्टिकोण अपनाते हुए एयरलाइन के दोबारा चालू होने के संकेत दिए। उन्होंने कहा कि हमने अपनी प्रिय एयरलाइन को दोबारा चालू करने का प्रयास बंद नहीं किया है। इसके लिए अवसर की तलाश जारी है। ऋणदाताओं से बातचीत जारी है और बोली प्रक्रिया में हम उन्हें अपना समर्थन दे रहे हैं।

30-04-2019
CM Bhupesh Baghel: सरकारी नौकरी पर नहीं आउटसोर्सिंग पर लगी रोक: सीएम भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सरकारी नौकरी पर लगी रोक पर भाजपा पर पलटवार किया है। उन्होंने ट्विट पर लिखा है कि डॉक्टर की डिग्री है। 15 साल तक प्रदेश चलाया फिर भी यह अज्ञानता? क्या नियमों की जानकारी आपको नहीं है? आप भले ही अपनी सरकार नियमों को ताक पर रखकर चलाते होंगे, लेकिन हम नहीं। सीएम भूपेश बघेल ने ट्विट कर कहा कि प्रदेश में सरकारी नौकरियों पर रोक नहीं, आउटसोर्सिंग पर रोक लगी है। आदेश की कॉपी पढ़ लें और झूठ न बोलें।


19-04-2019
जेट एयरवेज के स्टाफ को स्पाइस जेट देगी नौकरी

नई दिल्ली। देश की निजी विमानन कंपनी स्पाइस जेट ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा है कि वह पायलट, केबिन क्रू, टेक्निकल स्टाफ और एयरपोर्ट स्टाफ  की भर्ती कर रहा है। स्पाइस जेट ने यह भी कहा है कि जेट एयरवेज के बंद होने से जिन लोगों की नौकरी चली गई है हम उन लोगों को प्राथमिकता दे रहे हैं और अपनी कंपनी का विस्तार कर रहे हैं। हमलोगों ने 100 से ज्यादा पायलटों, 200 से ज्यादा केबिन क्रू, 200 से ज्यादा टेक्निकल और एयरपोर्ट स्टाफ  को नौकरी दे चुके हैं। स्पाइस जेट ने यह भी कहा है कि जो भी बेहतर होगा हम लोग और करेंगे। अपने विमानों की संख्या जल्द ही बढ़ाने वाले हैं। स्पाइस जेट ने आश्वासन दिया है कि यात्रियों को कम से कम परेशानी का सामना करना पड़े। खासकर इस व्यस्त सीजन में उन्हें सहूलियत मिल सके। इसके लिए भरपूर प्रयास किए जा रहे हैं। बता दें कि घोर आर्थिक संकट से जूझ रही जेट एयरवेज ने अपनी सभी उड़ानें बंद कर दी हैं और उसके सभी स्टाफ बेरोजगार हो गए हैं।  जेट एयरवेज से करीब 20 हजार लोग जुड़े हुए थे।

इससे पहले एयर इंडिया ने जेट एयरवेज के 5 बड़े विमानों को पट्टे पर लेने की बात की है। साथ ही एयर हॉस्टेस को भी अपने यहां रखने की बात की है। बताया जा रहा है कि अभी तक 150 से ज्यादा एयर होस्टेस को एयर इंडिया ने नौकरी का ऑफर किया है।

 

 

15-04-2019
Arrest: एम्स अस्पताल में नौकरी लगाने का झांसा देकर ठगी करने वाला आरोपी गिरफ्तार 

रायपुर। एम्स अस्पताल में वार्ड ब्वॉय एवं नर्स की नौकरी लगाने का झांसा देकर बेरोजगार युवक-युवतियों से लाखों रुपए की ठगी करने वाले आरोपी को आमानाका पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आमानाका थाना प्रभारी रमाकांत साहू ने बताया कि पकड़े गए आरोपी का नाम शेख अशरफ (19) निवासी रोटरी नगर है। आरोपी ने एम्स अस्पताल में वार्ड ब्वॉय व नर्स की नौकरी दिलाने का झांसा देकर करीब 15-16 बेरोजगारों से 40 से 45 हजार रुपए ठगा था। बताया जाता है कि आरोपी अब तक लाखों रुपए की ठगी कर चुका है। आरोपी स्लम बस्ती के 10 -12 वीं पढ़े लोगों को अपना शिकार बनाता था। आरोपी ने चार दिन पूर्व एम्स परिसर में लोगों को साक्षात्कार के लिए बुलाया था। जब बेरोजगार साक्षात्कार देने पहुंचे तो वहां पर कोई नहीं था। आरोपी को जब फोन किया तो मोबाइल बंद मिला। इससे लोग समझ गए कि आरोपी उन्हें धोखा दे रहा है। इसके बाद बीएसयूपी कॉलोनी आमानाका निवासी एम. रूपा (19) नेथानो में शिकायत की। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। बताया जाता है कि आरोपी पूर्व में भी इसी तरह के ठगी के मामले में जेल जा चुका है।

01-03-2019
Fraud : नौकरी दिलाने का झांसा देकर 2 लाख 15 हजार की ठगी, जुर्म दर्ज

 

रायपुर। सिंचाई विभाग में नौकरी दिलाने का झांसा देकर 2 लाख 25 हजार की ठगी करने का मामला प्रकाश में आया है। पीड़ित महिला की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने बुजुर्ग के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है। बता दें कि हमीद नगर चांदनी चौक निवासी प्रेमा राव (68) ने कोतवाली थाना में शिकायत किया कि आरोपी नारायण प्रसाद खम्परिया (73) वर्ष ने अपनी ऊंची पहुँच का धौस जताते हुए महिला के नाती आशीष राव का सिचाई विभाग में नौकरी दिलाने की बात कही और महिला से 2 लाख 215 हजार रुपए ऐंठ लिया। जब काफी दिनों तक आरोपी नौकरी नही दिलवा पाया तो महिला ने अपना पैसा वापस मांगा। आरोपी द्वारा पैसे नही देने पर महिला ने इसकी शिकायत थाने में कई है।

28-01-2019
Chhattisgarh:  कैबिनेट का फैसला, छत्तीसगढ़ के युवाओं को मिलेगी सरकारी नौकरी में 5 वर्ष की छूट

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में सोमवार को मंत्रालय (महानदी भवन) में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक हुई। इसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। बैठक में शासन के विभागों में सीधी भर्ती से भरे जाने वाले पदों के लिए निर्धारित अधिकतम आयु सीमा में छत्तीसगढ़ के स्थानीय निवासी अभ्यर्थियों को अधिकतम 5 वर्ष की छूट दी जाएगी। छत्तीसगढ़ के स्थानीय निवासियों को अधिकतम आयु सीमा 35 वर्ष में दी गई 5 वर्ष की छूट की अवधि को पांच वर्ष तक बढ़ाया गया। अन्य विशेष वर्गों के लिए अधिकतम आयु सीमा में देय छूट यथावत रखते हुए सभी छूट को मिलाकर उनके लिए अधिकतम आयु सीमा 45 वर्ष यथावत निर्धारित रहेगी।
छत्तीसगढ़ आबकारी नीति वित्तीय वर्ष 2019-20 पर चर्चा की गई। इसमें आबकारी ड्यूटी दरें बढ़ाने तथा 50 दुकानें बंद करने का निर्णय लिया गया। बैठक में बजट अनुमान वर्ष 2019-20 तथा छत्तीसगढ़ विनियोग विधेयक 2019 पर चर्चा की गई। इसके अलावा  विशुद्ध रूप से राजनीतिक आंदोलनों से संबंधित प्रकरणों की वापसी के लिए गृहमंत्री की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की उपसमिति का गठन करने का फैसला भी लिया गया। 

12-01-2019
Employing Railway : रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर 10 लाख की ठगी 

अभनपुर।  रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर कांकेर के एक बेरोजगार युवक से दस लाख पैंसठ हजार रुपए ठगने का मामला सामने आया है। पीड़ित युवक की शिकायत पर पुलिस ने दो शातिरों के खिलाफ चार सौ बीसी का केस दर्ज किया है। फिलहाल आरोपियों को गिरफ्तारी नहीं की गई है।

ऐसा हुआ ठगी

अभनपुर थाना प्रभारी कुंज बिहारी नांगे ने बताया कि कांकेर जिले के नरहरपुर थाना क्षेत्र के ग्राम कुर्रूभाट निवासी किसान महेश्वर साहू (65) ने बताया कि दो साल पहले एक आदमी ने मोबाइल पर कॉल किया। उसने कहा कि आप के गांव में कोई शिक्षित बेरोजगार नौकरी करना चाहता हो तो उसकी रेलवे में नौकरी लग सकती है।

मार्कशीट, जाति, निवास व रोजगार कार्यालय के पंजीयन की फोटो कॉपी और 10 हजार रुपए लेकर अभनपुर में मिलो। झांसे में आकर महेश्वर ने अपने बेरोजगार बेटे ताराचंद साहू की नौकरी के लिए उसे साथ लेकर अभनपुर गया। वहां फोन करने पर बस स्टैंड में प्रदीप सिंह ठाकुर और सलीम खान मिले।

उन्होंने सभी दस्तावेज लेकर कहा कि आपके बेटे का चयन रेलवे के जूनियर क्लर्क के लिए हो सकता है, इसके लिए 6 लाख रुपए लगेंगे। नौकरी नहीं लगने पर पूरी राशि ब्याज समेत वापसी की गारंटी है।

खेत बेचकर, कर्ज लेकर दिए पैसे 

गरीब किसान महेश्वर ने बताया कि इतनी बड़ी रकम की व्यवस्था नहीं होने की बात कहने पर ठगों ने कहा कि केंद्र सरकार की नौकरी है, यह किस्मत वालों को मिलती है। उनके चक्कर में आकर महेश्वर ने गांव की तीन एकड़ खेत बेचने का सौदा कर 2 लाख रुपये एडवांस दिया।

बाकी पैसा बैंक से कर्ज लेकर कुल छह लाख रुपए की व्यवस्था की। ठगों ने किश्तों में छह लाख रुपए ले लिए। पूरे पैसे देने के बाद जब महेश्वर ने ज्वाइनिंग लेटर की कॉपी मांगी की तो ठगों ने छह महीने के ट्रेनिंग और तीन महीने आब्जरवेशन पर रहने के बाद जनवरी 2017 तक पदस्थापना कराने की बात कही। इसके बाद कभी तीन तो कभी छह माह का समय बढ़ाकर टालते रहे।

परेशान होकर महेश्वर ने पैसा वापस करने दबाव बनाया तो ठगों ने ताराचंद का सलेक्शन होने की जानकारी दी और कहा कि पहले वाले साहब का दूसरी जगह पर तबादला हो गया है। इसके कारण अब रेट बढ़कर 10 लाख 50 हजार रुपये हो गया है, जो देना पड़ेगा। पूरे पैसे न देने पर पूर्व में दिए गए छह लाख भी डूब जाएंगे। इस तरह से ठगों ने ब्लैकमेलिंग कर दबाव बनाया। पैसा डूबने के डर से महेश्वर ने 10 लाख 65 हजार रुपये उनके बताए गए बैंक खाते में जमा करा दिए। वही पुलिस सूत्रों ने बताया कि मूलत गरियाबंद जिले के राजिम क्षेत्र के ग्राम दुतकइया निवासी सलीम खान और प्रदीप सिंह ठाकुर ने कई बेरोजगारों के परिजनों से फोन पर संपर्क कर इसी तरह से रेलवे समेत अन्य विभागों में नौकरी दिलाने का लालच देकर लाखों रुपये ठगे हैं। हालांकि अभी तक ठगी के शिकार महेश्वर साहू ने ही थाने में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने मामले में दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 420, 34 के तहत अभनपुर थाने अपराध कायम कर लिया है।

11-01-2019
Fraud: मंत्रालय में नौकरी लगाने के नाम पर 2.62 लाख की धोखाधड़ी

 भिलाईनगर। पुरानी भिलाई 3 थाना अंतर्गत एक सेवानिवृत्त कर्मचारी के पुत्र को मंत्रालय में चपरासी की नौकरी लगाने का झांसा देकर दो साल पहले दो लोगों द्वारा 2 लाख 62 हजार रुपए की धोखाधड़ी करने का मामला प्रकाश में आया है।  पुरानी भिलाई-3 पुलिस ने बताया कि बीएमवाय चरोदा संगम चौक बस्ती निवासी सेवानिवृत्त कर्मचारी कृपाराम रवानी पिता हरिराम रवानी (70) से रामकृष्ण मंदिर के पास विश्वबैंक शांति नगर लोहारपारा भिलाई 3 निवासी अंजली कर्मकार एवं उसके रिश्तेदार सुरेश तिवारी से जान-पहचान थी। कृपाराम का पुत्र चंदन कुमार कक्षा 10वीं फेल था।

उसे मंत्रालय में चपरासी पद पर नौकरी लगाने की बात कहते हुए दोनों ने 2 लाख 62 हजार रुपए क्रमश: 1 दिसंबर 2016 -29 हजार, 9 दिसंबर 2016-24 हजार, 20 दिसंबर 2016 -24 हजार, 31 जनवरी 2017-35 हजार,4 फरवरी 2017-8 हजार, 30 जून2017-1 लाख 20 हजार, 29 जून 2017-22 हजार रुपए ले लिए, लेकिन न नौकरी लगाया न ही रुपए वापस किए। ज्यादा दबाव डालने पर सुरेश तिवारी ने बैंक आफ  इंडिया का चेक दिया जो कि अपर्याप्त निधि के कारण बाउंस हो गया। जिस पर प्रार्थी ने थाने में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने दोनों आरोपी के खिलाफ  अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804