GLIBS

Rajya Sabha : सवर्ण आरक्षण बिल पर राज्यसभा में पेश, बहस जारी

आर पी सिंह  | 09 Jan , 2019 12:38 PM
Rajya Sabha : सवर्ण आरक्षण बिल पर राज्यसभा में पेश, बहस जारी

नई दिल्ली। लोकसभा में पास होने के बाद  नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में सवर्णों को आर्थिक आधार पर 10% आरक्षण देने वाला विधेयक राज्यसभा में बुधवार को पेश किया गया। दरअसल लोकसभा में भाजपा के पास पर्याप्त संख्या बल होने के चलते यह आसानी से पास हो गया। विधेयक के पक्ष में 323 और विरोध में 3 वोट पड़े। चर्चा के दौरान कांग्रेस-सपा-बसपा ने समर्थन की बात कही। हालांकि, विपक्षी पार्टियों ने लोकसभा चुनाव नजदीक होने पर इस बिल को लाने के लिए सरकार की मंशा पर सवाल जरूर उठाए। अगर राज्यसभा में भी ये पार्टियां समर्थन देती हैं तो मोदी सरकार के लिए बिल पास कराने की राह आसान हो जाएगी।

राज्यसभा की संभावनाओं पर डालते हैं एक नजर:

राज्यसभा में सांसदों की मौजूद संख्या 244 है। बिल पारित कराने के लिए वहां दो तिहाई सांसदों यानी 163 वोटों की जरूरत होगी। भाजपा (73) समेत एनडीए के पास 88 सांसद हैं। इसके अलावा लोकसभा में बिल का समर्थन करने वाले विपक्षी दलों के राज्यसभा में कुल सांसद 108 हैं। यदि लोकसभा की तरह राज्यसभा में भी ये सभी दल बिल का समर्थन करते हैं तो सांसदों की संख्या 196 हो जाएगी। जो जरूरी संख्याबल 163 से काफी ज्यादा है। 

सारी कहानी आंकड़ों की जुबानी:

राज्यसभा में सांसदों की मौजूद संख्या 244

बिल पारित कराने के लिए जरूरी वोट 163

एनडीए 88 + कांग्रेस और अन्य दल 108 = 196

 

एनडीए रास सदस्य

भाजपा 73

जदयू 6

शिवसेना 3

अकाली 3

आरपीआई 1

बोडोलैंड फ्रंट 1

एसडीएफ 1

कुल 88

इन्होंने भी बिल का समर्थन किया

कांग्रेस 50

सपा

13

 

तृणमूल 13

बीजद 9

तेदपा 6

टीआरएस 6

बसपा 4

राकांपा 4

आप 3

कुल 108

ऐसे में अगर देखा जाए तो ये बिल यहां भी आसानी से पास हो जाएगा।