GLIBS

Cricket competition: रेल ट्रॉफी 2019 का फाइनल जीता मेकैनिकल टीम ने, किया खिताब पर कब्जा

ग्लिब्स टीम  | 25 Feb , 2019 07:07 PM
Cricket competition: रेल ट्रॉफी 2019 का फाइनल जीता मेकैनिकल टीम ने, किया खिताब पर कब्जा

रायपुर। सेकरसा रायपुर की ओर से आयोजित विमला देवी लुनिया की स्मृति में 16वीं अंतर विभागीय क्रिकेट प्रतियोगिता रेल ट्रॉफी 2019 का सोमवार को फाइनल मैच मेकैनिकल एवं डब्ल्यूआरएस के बीच खेला गया। इसमें विजेता टीम मेकैनिकल, उपविजेता डब्लूआरएस, तीसरे स्थान पर आरपीएफ की टीम रही 
मंडल रेल प्रबंधक कौशल किशोर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। उनके साथ अपर मंडल रेल प्रबंधक(ओपी) अमिताव चौधरी, मुख्य क्रीड़ा अधिकारी डॉ. आर. सुदर्शन, क्रीड़ा अधिकारी आदित्य गुप्ता सहित मंडल के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। मंडल रेल प्रबंधक कौशल किशोर ने मेकैनिकल को खिताब जीतने पर बधाई दी और डब्लूआरएस और आरपीएफ को क्रमशः दूसरे और तीसरा स्थान प्राप्त करने पर शुभकामनाएं दी। पूरे टूर्नामेंट को एक सौहार्दपूर्ण माहौल में आयोजित करने के लिए उन्होने सेकरसा को बधाई दी। उन्होंने सभी खिलाड़ियों को खेल भावना का परिचय देते हुए इस टूर्नामेंट को सफल बनाने के लिए बधाई दी।         
मंडल रेल प्रबंधक ने विजेता टीम मेकैनिकल, उपविजेता डब्लूआरएस एवं तीसरे स्थान के आरपीएफ के सभी खिलाड़ियों को मेडल और ट्रॉफी भेंट की। इसके अलावा कुछ व्यक्तिगत पुरस्कार एवं टीम पुरस्कारों का वितरण भी मंडल रेल प्रबंधक ने किया। इसमें 
मैन ऑफ द मैच फाइनल योगेश निषाद(मेकैनिकल) और बेस्ट प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट पीयूष मिश्रा एवं मैन ऑफ द सीरीज़ एम. रवि कुमार दिया गया। 
12 से 25  फरवरी तक पहले  लीग फिर नॉक ऑउट प्रणाली के अनुसार खेले गए इस टूर्नामेंट में मेकैनिकल और डब्लूआरएस ने श्रेष्ठता साबित कर फाइनल में जगह बनाई। मेकैनिकल टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। बड़ा लक्ष्य सेट करने के उद्देश्य से उतरी मेकैनिकल ने पहले ओवर से ही अपने इरादे जता दिये थे। 22 रनों की सलामी जोड़ी की साझेदारी, फिर 51 रनों की पहले विकेट की साझेदारी की बदौलत मेकैनिकल ने 12 ओवरों में 6 विकेट पर 113 रन बना लिए थे। जावेद अख्तर ने 28 रनों के योगदान दिया तो अजय प्रजापति ने 27 रनों की पारी खेली। विश्वदीप ने 18 रनों की आकर्षक पारी खेली। राजा ने तीन विकेट लिए तो बृजेश पांडे ने 2 विकेट हासिल किए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी डब्लूआरएस की टीम के विकेट लगातार गिरते रहे। राहुल बागड़े ने 17 और रूद्र मूर्ति ने 13  रन बनाकर कुछ संघर्ष करने का प्रयास किया पर उनके अलावा सभी बल्लेबाजों ने लगभग समर्पण कर दिया और निर्धारित 12 ओवरों में 9 विकेट पर सिर्फ 58 रन ही बना सकी। इस तरह 55 रनों के विशाल अन्तर से मेकैनिकल ने इस वर्ष के खिताब पर कब्जा कर लिया। योगेश निषाद ने 12 रन देकर 3 विकेट लिए।