GLIBS

अलका लांबा को निकला वाट्सएप ग्रुप से, दिए पार्टी छोड़ने के संकेत

तरुण कुमार  | 26 May , 2019 12:31 PM
अलका लांबा को निकला वाट्सएप ग्रुप से, दिए पार्टी छोड़ने के संकेत

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी ने अपने विधायकों के वाट्सएप ग्रुप से अलका लांबा को हटा दिया है। इसके बाद अलका का गुस्सा सीएम अरविंद केजरीवाल पर फूटा है। वो खुलकर सीएम के खिलाफ आ गई हैं। उन्होंने कहा है कि मुझ पर गुस्सा क्यों दिखा रहे हैं, अपने गलत फैसलों पर निकालिए केजरीवाल, आपको सीएम बने रहने का कोई हक नहीं है, आप तुरंत इस्तीफा दीजिए। अलका ने मांगा केजरीवाल का इस्तीफा उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल द्वारा ट्वीट कर दूसरे राज्यों से कार्यकर्ताओं के दिल्ली में आकर प्रचार-प्रसार करने की अपील पर कटाक्ष करते हुए कहा था कि जब हमारी दिल्ली में सरकार है, 66 विधायक हैं, नगर निगम पार्षद हैं, 3 राज्यसभा सांसद हैं, फिर भी देश भर के कार्यकर्ताओं को दिल्ली आने की अपील करनी पड़ रही है। यह दिल्ली इकाई की कमजोरी को दिखाता है।

अलका ने अपने गुस्से के साथ ही ये भी संकेत दे दिए कि वो पार्टी छोड़ना चाहती हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि 2013 में शुरू हुआ उनका आम आदमी पार्टी के साथ सफर 2020 में खत्म हो जाएगा। अलका लांबा ने पार्टी के साथ अपने सफर को यादगार बताया है। अलका लांबा का कहना है कि उन्हें ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को पांचवे कार्यकाल के लिए मिली जीत पर बधाई देने की वजह से उन्हें व्हाट्सऐप ग्रुप से हटा दिया गया, व्हाट्सऐप ग्रुप का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर साझा करते हुए उन्होंने केजरीवाल की निंदा की और पूछा कि आखिर उन्हें ही क्यों लोकसभा चुनावों में मिली पार्टी की हार का जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।