GLIBS

BJP : चोर देश में हो या विदेश में छोडूंगा नहीं: पीएम मोदी

प्रिया पांडेय  | 12 Jan , 2019 02:56 PM
BJP : चोर देश में हो या विदेश में छोडूंगा नहीं: पीएम मोदी

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन का आज दूसरा दिन है। अधिवेशन में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह समेत पार्टी के तमाम दिग्गज समेत प्रदेश के नेता भी पहुंचे हैं। इस अधिवेशन में शामिल होने के लिए तकरीबन 10 हजार कार्यकर्त्ता पहुंचे हुए हैं। बीजेपी के राष्ट्रीय अधिवेशन में पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार पर कोई भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं है। आज मुझे बोलने का बहुत ज्यादा मन नहीं है। आजादी के बाद यदि देश के पहले प्रधानमंत्री सरदार पटेल बनते तो देश की तस्वीर कुछ और होती। वर्ष 2000 के बाद भाजपा ने देश को अंधेरे से बाहर निकालने का काम किया है। अब देश ईमानदारी की ओर चल पड़ा है। चोर देश में हो या विदेश में मैं नहीं छोडूंगा। जिसे जो करना है कर लें। चोरों के डर से ये चौकीदार रुकने वाला नहीं है।

विरोधी दल बन रहे सहयोगी, यह वोटर्स से धोखा

राजनीतिक दल जो एक जमाने में कांग्रेस के तौर तरीकों को सही नहीं मानते थे वो आज एकजुट हो रहे हैं। जबकि कांग्रेस के बड़े-बड़े नेता जमानत पर हैं, तब ये दल कांग्रेस के सामने सरेंडर कर रहे हैं। ये देश के मतदाताओं को धोखा देने का प्रयास है। हमने कांग्रेस प्रोसेस वाली लोन व्यवस्था पर लगाम लगाई है। इसका परिणाम है कि जहां पहले बैंकों का पैसा जा रहा था, वहीं अब बैंकों का पैसा वापस आ रहा है।

हमारे लिए दल से बड़ा देश है

क्या आयुष्मान भारत योजना के आगे नरेन्द्र मोदी लिखा है? क्या भारत माला, सागर माला के आगे नरेन्द्र मोदी लिखा है? क्या उज्ज्वला योजना मोदी के नाम से जानी जाती है? ऐसा नहीं है क्योंकि हमारे लिए स्वयं से बड़ा दल और दल से बड़ा देश है।

विरोधी दलों के लोग आरोप लगाते हैं हमने सिर्फ योजनाओं के नाम बदले हैं। ऐसे लोग ये बताएं कि कितनी योजनाएं नरेन्द्र मोदी के नाम से चल रही है? ये इसलिए है क्योंकि भाजपा में हमें यही सिखाया गया है कि स्वयं से बड़ा दल और दल से बड़ा देश होता है। कोशिशों में हमने कोई कमी नहीं छोड़ी है और ये आगे भी जारी रहेगी। साल 2022 तक किसान अपनी आय दोगुनी करने के साधन जुटा सके इसके लिए हम दिन रात जुटे हुए हैं।

लोन की कांग्रेस प्रोसेस खत्म की

आजादी से लेकर 2008 तक 60 सालों में बैंकों ने मात्र 18 लाख करोड़ रुपये का लोन दिया था। लेकिन 2008 से 2014 तक ये आंकड़ा बढ़कर 52 लाख करोड़ हो गया यानि कांग्रेस के आखरी 6 साल में 34 लाख करोड़ के लोन दिए गए। कांग्रेस के समय लोन लेने के दो तरीके थे। एक था कॉमन प्रोसेस और दूसरा कांग्रेस प्रोसेस जिसे हमने खत्म किया। कॉमन प्रोसेस में आप बैंक से लोन मांगते थे और कांग्रेस प्रोसेस में बैंकों को कांग्रेस के घोटालेबाज मित्रों को लोन देने के लिए मजबूर किया जाता था।