GLIBS

हिरासत में मौत मामले में पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को उम्रकैद

तरुण कुमार  | 20 Jun , 2019 02:08 PM
हिरासत में मौत मामले में पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को उम्रकैद

 

नई दिल्ली। गुजरात की जामनगर कोर्ट ने हिरासत में मौत के मामले में बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को दोषी करार दिया है। कोर्ट ने संजीव भट्‌ट को उम्रकैद की सजा सुनाई है। 1990 में जामनगर में भारत बंद के दौरान हिंसा हुई थी। भट्ट उस वक्त जामनगर के एएसपी थे। इस दौरान 133 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया, जिनमें 25 लोग घायल हो गए थे और आठ लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

न्यायिक हिरासत में रहने के बाद एक आरोपी प्रभुदास माधवजी वैश्नानी की मौत हो गई। इस मामले में गुरुवार को जामनगर कोर्ट ने पूर्व आईपीएस और उनके सहयोगी को उम्रकैद की सजा सुनाई है। बता दें कि संजीव भट्ट को बिना किसी मंजूरी के गैरहाजिर रहने व आवंटित सरकारी वाहन के दुरुपयोग को लेकर 2011 में निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद 2015 में उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था।