GLIBS

बसंत पंचमी पर आज कुंभ का तीसरा और अंतिम शाही स्नान, जानें-क्या है महत्व

बसंत पंचमी पर आज कुंभ का तीसरा और अंतिम शाही स्नान, जानें-क्या है महत्व

 

प्रयागराज। बसंत पंचमी के दिन रविवार को संगम में कुंभ का तीसरा और अंतिम शाही स्नान किया जा रहा है। संगम तट पर बसंत पंचमी के दिन स्नान, पूजा, पाठ, दान का विशेष महत्व होता है। 15 जनवरी से शुरू हुए कुंभ के महापर्व में अब तक करोड़ों श्रद्धालु डुबकी लगा चुके हैं। अनुमान लगाया जा रहा है बसंत पंचमी और अंतिम शाही स्नान में लगभग 2 करोड़ श्रद्धालु डुबकी लगा सकते हैं। बसंत पंचमी के दिन जो लोग कुंभ में जाकर स्नान नहीं कर सकते हैं वो घर में स्नान के पानी में गंगाजल डालकर स्नान जरूर करें।
स्नान का महत्व
बसंत पंचमी के पवित्र अवसर पर कुंभ में स्नान का विशेष महत्व है। बसंत पंचमी के मौके पर किया जा रहा स्नान अमृत स्नान के समान माना जाता है। प्रयागराज में गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती नदी का संगम होता है। मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन सरस्वती नदी में स्नान करने से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है साथ ही व्यक्ति को महापुण्य मिलता है। ये भी मान्यता है कि मौनी अमावस्या के बाद बसंत पंचमी पर संगम स्नान करने से पूर्ण कुंभ स्नान का फल मिलता है।