GLIBS

सुनील अग्रवाल के समर्थन में उतरे बैंकर्स, मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन के लिए रहेंगे तैयार :ललित अग्रवाल

रोहित बन्छोर  | 22 May , 2019 07:58 PM
सुनील अग्रवाल के समर्थन में उतरे बैंकर्स, मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन के लिए रहेंगे तैयार :ललित अग्रवाल

रायपुर। बिलासपुर का बैंकर्स क्लब पीएनबी के एजीएम सुनील अग्रवाल के समर्थन में उतर गया है। बैंकर्स क्लब के समन्वयक ललित अग्रवाल ने बताया कि इसके लिए हमने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी ज्ञापन सौंपा है। उन्होंने बताया कि समस्त शासकीय योजनाओं को सफल बनाने वाले बैंकर्स के साथ यदि इस तरह अन्याय किया जायेगा तो बैंकर्स हतोत्साहित होंगे और उनका मनोबल टूट जाएगा। बैंकर्स क्लब ने मुख्यमंत्री से निवेदन किया है कि वे शासन की गारंटी पर शासकीय बैंक द्वारा शासकीय संस्था को ऋण प्रकरण की सच्चाई को समझते हुए प्रशासन को निर्देश देंगे और पीएनबी के एजीएम सुनील अग्रवाल को तत्काल रिहा करेंगे।
ललित अग्रवाल ने बताया कि 2017 में पंजाब नेशनल बैंक रायपुर मुख्य शाखा से डीकेएस पीजीआई नामक एक सरकारी अस्पताल को 64 करोड़ का लोन स्वीकृत किया था। डीकेएस पीजीआई की मालिक एक सरकारी सोसाइटी है, जिसके पदेन सदस्य छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री, स्वास्थ्य सेवा विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी, सेक्रेटरी मेडिकल एजुकेशन, डीकेएस के अधीक्षक और कलेक्टर हैं। इसमें बैंक ने मेडिकल इक्विपमेंट्स फाइनेंस किए थे। इनकी सप्लाई एक सरकारी संस्था छत्तीसगढ़ स्टेट मेडिकल सप्लाइज कारपोरेशन ने की। इस लोन की गारण्टी राज्य सरकार ने ली, मतलब एकाउंट में स्टेट गवर्नमेंट गारण्टी उपलब्ध है। इस एकाउंट में एक ऑडिटेड बैलेंस शीट लगी है 2016-17 की। वही दूसरे केस में पुलिस को इस बैलेंस शीट के ऑडिटर ने बताया है कि बैलेंस शीट ऑडिट पर उसने साइन नहीं किये हैं। इस पर पुलिस ने सुनील अग्रवाल पर चार्ज लगाया है कि उन्होंने डीकेएस पीजीआई को फर्जी बैलेंस शीट पर लोन दिलवाया है। खास बात यह है कि डीकेएस  की लोन रिलेटेड कमेटी में वह चार्टड एकाउंटेंट स्वयं बैठता था और लोन रिलेटेड डिसिशन में कमेटी को सलाह देता था। उन्होंने कहा कि हमें न्यायपालिका पर भरोसा है और शासन की मदद करेंगे। वहीं हमारी मांगों पर गौर नहीं किया तो समस्त बैंकर्स आंदोलन करने के लिए तत्पर रहेंगे।