GLIBS

Scam : 20 साल पुराने शौचालयों को बताया नया, 12 की जगह 10 हजार ही हितग्राहियों को दिए

बिप्लब कुंडू  | 10 Jan , 2019 12:41 PM
Scam : 20 साल पुराने शौचालयों को बताया नया, 12 की जगह 10 हजार ही हितग्राहियों को दिए

पखांजूर। कांकेर जिले के जनपद पंचायत कोयलीबेड़ा अंतर्गत ग्राम पंचायत बांदे में शौचालय निर्माण में घोटाला करने का मामला सामने आया है। वर्ष 2016-17 में बांदे पंचायत के द्वारा 395 शौचालय का निर्माण किया गया। इससे ग्राम को ओडीएफ पंचायत का दर्जा प्राप्त हुआ। वहीं ग्रामीणों का आरोप है कि पंचायत के सरपंच, सचिव की मिली भगत से लगभग 20 साल पुराना शौचालय को भी नए शौचालय में दर्शाया गया है। इसका खुलासा तब हुआ जब-बिना मिस्त्री मीतू राय सविता सिंह के घर में पुराना शौचालय के नाम पर रकम निकाला गया जबकि हितग्राही को इसकी भनक तक नही लगी, यहाँ तक हितग्रही को जानकारी भी नही है कि उनके नाम से शौचालय आ गई। वहां कागजों में बांदे पंचायत को ओडीएफ ग्राम घोषित तो कर दिया है, लेकिन गांव में जाकर हितग्राहियों से मिलने पर जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। इससे साफ जाहिर होता है की इस गांव में शौचालय निर्माण में किस तरह से भ्रष्टाचार हुआ होगा। जानकारी के अनुसार बांदे पंचायत में कुल 395 शौचालय निर्माण किया गया, जिसकी कुल राशि 4,74,0000 रुपए थी। जिसमें से 44 लाख आहरण किया गया एवं सभी हितग्राही को दस दस हजार रुपए का भुगतान भी किया गया जबकि हितग्राहियों को 12000 रुपए दिया जाना था।

शिकायत पर जांच कराएंगे

इस विषय पर जिला जनपद सदस्य सुप्रकाश मल्लिक, प्रकाश कुमार भारद्वाज मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत कोयलीबेड़ा से बात की तो सीईओ का कहना था कि लिखित शिकायत मिलने पर उचित जांच कराई जाएगी।