GLIBS

Munaga : मुनगा पीकेएम-1 में 300 से ज्यादा रोगों को लड़ने की क्षमता

तिलक देवांगन  | 21 Jan , 2019 10:33 AM
Munaga : मुनगा पीकेएम-1 में 300 से ज्यादा रोगों को लड़ने की क्षमता

रायपुर। मुनगा जहां स्वाद के दृष्टिकोण से लोगों द्वारा खासा पसंद किया जाता है और कई खास अवसरों में लोगों के किचन का स्वाद बढ़ाता है वहीं लोगों के स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी लाभदायक है। यह लगभग 300 से ज्यादा रोगों से लड़ने की क्षमता रखता है। राजधानी रायपुर में इंदिरा गांधी कृषि महाविद्यालय के सभागार में लगाए गए स्टाल में राजनादगांव से आए पंडित किशोरी लाला शुक्ला उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र के डॉ. बीएस असाटी सहायक प्राध्यापक  सब्जी विज्ञान विशेषज्ञ ने बताया कि मूनगा विश्वभर में 240 प्रजाति की पाई जाती है।

इसमें पीकेएम-1 प्रजाति के मूनगाफल, तना जड़ फूल सभी स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से काफी हितकारी होते हैं जो लगभग 300 से ज्यादा रोगों को नष्ट कर मनुष्य स्वस्थ्य रखने की क्षमता रखता है। वहीं किडनी, ब्लड सुगर, कैंसर, जैसे घातक बीमारी को जड़ से खत्म करने की क्षमता भी रखता है। मूनगा की खेती कर हर किसान लाखों रुपए कमा सकता है। मूनगा को 24 से अधिक तरीके से पकाया जाता है। इसको अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग नामों से जाना जाता है। कहीं इसे सहजन तो कहीं इसे सुहाग की फल्ली के नाम से भी जाना जाता है।